गुरुवार, 6 जनवरी 2011

201. नए साल में मेरा चाँद (क्षणिका)

नए साल में मेरा चाँद

*******

चाँद के दीदार को
हम तरस गए
अल्लाह!
अमावास का अंत
क्यों होता नहीं?
मुमकिन है नया साल
चाँद से
रूबरू करा जाए 

- जेन्नी शबनम (6. 1. 2011)
______________________