रविवार, 25 अप्रैल 2010

138. 'शब' नहीं होगी (क्षणिका) / 'shab' nahin hogi (kshanika)

'शब' नहीं होगी 

*******

एक दिन ऐसा होगा, रोज़ रात भी होगी
पर वो रात नहीं होगी
एक दिन ऐसा होगा, रोज़ रात तो होगी
पर रात की वो नमी नहीं होगी
एक दिन ऐसा होगा, ख़ाली-ख़ाली-सी ज़िन्दगी होगी
पर कोई कमी नहीं होगी
एक दिन ऐसा होगा, दुनिया वैसी ही होगी
पर ये नज़्म नहीं होगी
एक दिन ऐसा होगा, खुशनुमा सुबह तो होगी
पर ये 'शब' नहीं होगी

- जेन्नी शबनम (24. 4. 2010)
__________________________

'shab' nahin hogi

*******

ek din aisa hoga, roz raat bhi hogi
par wo raat nahin hogi
ek din aisa hoga, roz raat to hogi
par raat ki wo nami nahin hogi
ek din aisa hoga, khaali-khaali-si zindagi hogi
par koi kami nahin hogi
ek din aisa hoga, duniya waisi hi hogi
par ye nazm nahin hogi
ek din aisa hoga, khushnuma subah to hogi
par ye 'shab' nahin hogi.

- Jenny Shabnam (24. 4. 2010)
_______________________________

शनिवार, 24 अप्रैल 2010

137. ज़मींदोज़ हो गये कुछ अनकहे जज़्बात / zameendoz ho gaye kuchh ankahe jazbaat

ज़मींदोज़ हो गए कुछ अनकहे जज़्बात

*******

तुमने तो कह दिया, उस दिन
मिले जब चोरी से, पहले दिन
न आना लेकर आँसू, मेरे पास
और न लाना, कोई ज़ख़्मी एहसास,
हँसती मुस्कुराती जब रहूँ, तब ही आऊँ
तुम्हारे मन में उमंग जगा पाऊँ, तो ही आऊँ

अब बताओ, कैसे आऊँ तुम्हारे पास
कहाँ छोड़ आऊँ, अपने सारे लम्हात
इस जन्म की आस, होगी नहीं फलित
जन्मों का फल प्रतिफल, पूर्व निर्धारित,
ज़मींदोज़ हो गए कुछ अनकहे जज़्बात
सिसक-सिसककर रोते रहे थे, जो दिन रात

मेरी चुप्पी हो, या हो भाव मुखरित
हर एहसास होते, तुमसे ही पल्लवित
अथाह कोलाहल हो, या हो शून्य आकाश
मचलते आठो पहर, पाने को तुम्हारा साथ,
उस दिन था हमारा मिलन, प्रथम औ आख़िरी
शायद इस जीवन की थी, यह उम्मीद आख़िरी

- जेन्नी शबनम (31. 3. 2010)
____________________________

zameendoz ho gaye kuchh ankahe jazbaat

*******

tumne to kah diya, us din
mile jab chori se, pahle din
na aana lekar aansoo, mere paas
aur na laana, koi zakhmi ehsaas
hansti muskuraati jab rahun, tab hin aaoon
tumhaare mann mein umang jaga paaun, to hin aaoon.

ab bataao, kaise aaoon tumhaare paas
kahaan chhod aaoon, apne saare lamhaat
is janm ki aas, hogi nahin falit
janmon ka fal pratifal, purv nirdhaarit,
zameendoz ho gaye kuchh ankahe jazbaat
sisak sisak kar rote rahe they, jo din raat.

meri chuppi ho, ya ho bhaav mukharit
har ehasaas hote, tumase hi pallavit
athaah kolaahal ho, ya ho shunya aakaash
machalte aatho pahar, paane ko tumhaara saath,
us din tha hamaara milan, pratham au aakhiri
shaayad is jivan ki thi, yah ummid akhiri.

- Jenny Shabnam (31. 03. 2010)
________________________________

सोमवार, 19 अप्रैल 2010

136. 'मनोज-बबली हत्याकांड' - ज़बह / 'manoj-babli hatyaakand' - zabah

['मनोज-बबली हत्याकांड' में करनाल अदालत द्वारा (31. 3. 2010) ऐतिहासिक फ़ैसला (33 महीना, 41 गवाह, 76 पेशी के बाद) - 5 अपराधी को सज़ा-ए-मौत]

बबली-मनोज की पीड़ा : उनकी ज़ुबानी
.............................................................

'मनोज-बबली हत्याकांड' - ज़बह

*******

मैं अपनी माँ की थी लाड़ली
वो अपनी माँ का था राज दुलारा
एक सुन्दर दुनिया थी हमने बसायी
मात्र प्रेम ही था एक हमारा सहारा

किसी का जहान, कब हमने थे छीने
प्रेम की दुनिया में, बस हम थे सिमटे
पंचायती हुक्म से बेबस, हम थे हारे
जाने कहाँ-कहाँ फिरते, हम थे छुपते

भाई, चाचा, मामा ने हमारा क़त्ल किया
सगे थे मगर, तुगलकी फ़ैसला कर दिया
क्या इतना बड़ा गुनाह था, हमने किया
जो जिस्म की हदों से, हमें निकाल दिया?

जिस्म की सारी पाबंदियाँ, ख़त्म हुई
जिस्म मिट गए मगर, रूह एक हुई
हर तालिबानी फ़ैसले से, बेफ़िक्री हुई
रूहों के इश्क की कहानी, अब शुरू हुई

इस जहान में, न तो कोई मज़हब है न जाति
न पंचायत या परम्परा के नुमायंदे तालिबानी
जिस्म में न रहे मगर, अब नहीं हम फ़रियादी
दो रूहों का सफ़र है ये, और ये जहान है रूमानी

हम तो मिट गए, जाने अभी और कितने मिटेंगे
हज़ारों बलि के बाद भी, क्या इनकी सोच बदलेंगे
ओ प्रेमियों! इस जहान से रोज़, तुमको हम देखेंगे
ज़ुल्म के आगे न झुकना, प्रेम के दिन कभी तो फिरेंगे

- जेन्नी शबनम (1. 4. 2010)
___________________________________


['manoj-babli hatyaakand' mein karnal adaalat dvara (31.03.2010) aetihaasik faisala (33 mahina, 41 gawah, 76 peshi ke bad) - 5 aparaadhi ko saza-ae-maut]

babli-manoj ki peeda : unki zubaani
.............................................................

'Manoj-Babli hatyaakand' - Zabah

*******

main apani maa ki laadli
wo apni maa ka raaj dulaara
ek sundar duniya thi hamne basaai
maatrr prem hi tha ek hamaara sahaara.

kisi ka jahaan kab, hum they chhine
prem ki duniya mein bas, hum they simte
panchaayati hukm se bebas, hum they haare
jaane kahaan-kahaan firte, hum they chhupte.

bhaai, chaacha, maama ne hamaara qatl kiya
sage they magar, tugalaki faisla kar diya
kya itna bada gunaah tha, hamne kiya
jo jism ki hadon se, hamein nikaal diya?

jism ki saari paabandiyan, khatm hui
jism mit gaye magar, ruh ek hui
har taalibani faisle se, befikri hui
roohon ke ishq ki kahaani, ab shuru hui.

is jahaan mein, na to koi mazhab hai na jaati
na panchaayat ya parampara ke numaayande taalibaani
jism mein na rahe magar, ab nahin hum fariyaadi
do roohon ka safar hai ye, aur ye jahaan hai rumaani.

hum to mit gaye, jaane abhi aur kitne mitenge
hazaaron bali ke baad bhi, kya inki soch badalenge?
o premiyon! is jahaan se roz, tumko hum dekhenge
julm ke aage na jhukna, prem ke din kabhi to firenge.

- Jenny Shabnam (1. 4. 2010)
_______________________________________

मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

135. होश न लेना (क्षणिका) / hosh na lena (kshanika)

होश न लेना 

*******

हर हँसी में एक व्यथा
हर व्यथा की अपनी कथा
अनगिनत राज़ दफ़न सीने में
असंख्य वेदनाएँ ज़ब्त मन में
डरती हूँ होश खो न दूँ, हर राज़ खोल न दूँ,
'शब' की एक दुआ-
ओ मेरे ख़ुदा! साँसें ले लेना, होश न लेना। 

- जेन्नी शबनम (13. 4. 2010)
_____________________

hosh na lena (kshanika)

*******

har hansee mein ek vyatha
har vyatha ki apni katha
anginat raaz dafan seene mein
asankhya vednaayen zabt mann mein
darti hun hosh kho na dun, har raaz khol na dun,
'shab' ki ek dua- 
o mere khuda! saansein le lena, hosh na lena.

- Jenny Shabnam (13. 4. 2010)
________________________

सोमवार, 12 अप्रैल 2010

134. बेअसर (क्षणिका) / beasar (kshanika)

बेअसर 

*******

न पथराया मन, न बेजान हुआ तन
न हो सकी अब तक मैं बेअसर 
होता है मुझमें अब भी असर
मेरे जीवित होने का प्रमाण है
गोया जीवन जीने की शर्त मेरी
ये रंग-बिरंगी कई गोलियाँ
तीखी-चुभती अनेक सूईयाँ
मीठी-कड़वी सबकी बोलियाँ

- जेन्नी शबनम (11. 4. 2010)
________________________


beasar 

*******

na pathraaya mann, na bejaan hua tann
na ho saki ab tak main beasar 
hota hai mujhmein ab bhi asar
mere jivit hone ka pramaan hai
goya jiwan jine kee shart meri
ye rang-birangi kaii goliyan
teekhi-chubhti anek sooiyan
meethi-kadwi sabki boliyan.

- Jenny Shabnam (11. 4. 2010)
______________________________

शनिवार, 10 अप्रैल 2010

133. मैं नज़्म बनती रही (तुकांत) / main nazm banti rahi (tukaant)

मैं नज़्म बनती रही

*******

ज़िन्दगी ढलती रही, मैं नज़्म बनती रही
उनकी ख़्वाहिश पर, मैं ग़ज़ल बनती रही 

रोज़ नयी सूरत कहाँ से लाऊँ, बताएँ ज़रा
जब भी मिले हैं वो, मैं तस्वीर बनती रही 

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क़ करते नहीं
ख़्वाब ही सही मगर, मैं नादान बनती रही

काँधा देंगे वो जब फ़ना हो जाऊँगी जहाँ से
जीकर उनके क़दमों की, मैं धूल बनती रही 

जब भी पुकारा उनको रहे डूबे ग़ैरों में वो
उनकी हर एक चाह पे, मैं ख़ाक बनती रही 

इश्क़ की ताज़ीर होती है अजब देखो 'शब'
ख़ता उनकी मगर, मैं गुनहगार बनती रही 
______________________
ताज़ीर - सज़ा / दंड
______________________

- जेन्नी शबनम (10. 4. 2010)
_____________________________


main nazm banti rahi

*******

zindgi dhalti rahi, main nazm banti rahi
unki khwaahish par, main ghazal banti rahi.

roz nayee soorat kahaan se laaun bataayen zara
jab bhi mile hain wo, main tasveer banti rahi.

khabar mujhe bhi hai ki wo ishq karte nahin
khwaab hin sahi magar, main naadan banti rahi.

kaandha denge wo jab fana ho jaaungi jahaan se
jeekar unke qadmon ki, main dhool banti rahi.

jab bhi pukara unko rahe doobe gairon mein wo
unki har ek chaah pe, main khaak banti rahi.

ishq ki taazeer hoti hai ajab dekho 'shab'
khata unki magar, main gunahgaar banti rahi.
___________________________
taazeer - saza / dand
___________________________

- Jenny Shabnam (10. 4. 2010)
_____________________________

गुरुवार, 8 अप्रैल 2010

132. अब इंतज़ार नहीं / ab intzaar nahin

'अब इंतज़ार है' ( कविता न - 131) की दूसरी कड़ी...


अब इंतज़ार नहीं

*******

ज्यों मौसम ने करवट बदली
लौट आये सब पखेरू प्रवासी,
देख अमवा की गाछी मंजराई
मेरे मन ने ली कुहुकती अँगड़ाई

शब्द भी आए होंगे वापस मेरे
भर उत्कंठा मैं दौड़ी हाथ पसारे,
मेरे शब्द ले गये थे पखेरू, संग अपने
पर छोड़ आये कर ज़ख़्मी, वो सागर तीरे

भागी अपने शब्द माँगने, पखेरुओं के पास
हँसकर किया उन्होंने, बड़ा निष्ठुर परिहास,
त्याग दूँ, अपने शब्दों की वापसी की आस
क्यों किया किसी अप्रवासी पर, मैंने विश्वास

प्रवासी पंछी तो ले गये थे, मेरे शब्द
कैसे कहती कुछ, मैं ठहरी रही बेशब्द,
मैं थी मौन, मेरी संवेदना नहीं निःशब्द
कैसे कहूँ मन की पीड़ा, मेरी भाषा अशब्द

संतप्त मन की व्यथा, ओ पाखी! तू समझता नहीं
शब्द भले छिन गये मुझसे, पर मेरे जज़्बात नहीं,
मन के कोलाहल से मुझे, अब कभी निजात नहीं
मेरे शब्दों की वापसी का मुझे, अब इंतज़ार नहीं

- जेन्नी शबनम (5. 4. 2010)
___________________________

ab intzaar nahin

*******

jyon mausam ne karwat badli
laut aaye sab pakheru prawasi,
dekh amwa(mango) ki gaachhi( tree) manjraai
mere mann ne li kuhukti angdaai.

shabd bhi aaye honge waapas mere
bhar utkantha main daudi haath pasaare,
mere shabd le gaye they pakheru, sang apne
par chhod aaye kar zakhmi, wo saagar teere.

bhaagi apne shabd maangne, pakheruon ke paas
hans kar kiya unhone, bada nishthur parihaas,
tyaag dun, apne shabdon kee waapasi ki aas
kyon kiya kisi aprawaasi par, maine vishwaas.

prawaasi panchhi to le gaye they, mere shabd
kaise kahti kuchh, main thahri rahi beshabd.
main thee maun, meri samvedna nahin nihshabd
kaise kahun mann kee peeda, meri bhaasha ashabd.

santapt mann ki vyatha, o paakhi, tu samajhta nahin
shabd bhale chhin gaye mujhse, par mere jazbaat nahin,
mann ke kolaahal se mujhe, ab kabhi nijaat nahin
mere shabdon ki waapasi ka mujhe, ab intzaar nahin.

- Jenny Shabnam (5. 4. 2010)
_______________________________