शुक्रवार, 5 जून 2020

671. फूलवारी

फूलवारी 

******* 

जब भी मिलने जाती हूँ   
कसकर मेरी बाँहें पकड़, कहती है मुझसे -   
अब जो आई हो, तो यहीं रह जाओ   
याद करो, जब अपने नन्हे-नन्हे हाथों से   
तुमने रोपा था, हम सब को   
देखो कितनी खिली हुई है बगिया   
पर तुम्हारे बिना अच्छा नहीं लगता   
बहुत याद आती हो तुम   
शहर में न तो फूल है न फूलवारी   
रूक जाओ न यहीं पर   
बचपन के दिनों सी बौराई फिरना।  

- जेन्नी शबनम (5. 6. 2020) 
_________________________________