रविवार, 9 मई 2010

141. माँ की अन्तःपीड़ा / maa kee antah peeda (पुस्तक - लम्हों का सफ़र - 51)

(यह रचना मैं तब लिखी थी जब मेरे पिता की मृत्यु के 20 साल पूरे हुए थे और उस समय मेरी उम्र उतनी ही थी जितनी पिता की मृत्यु के समय मेरी माँ की थी)

माँ की अन्तःपीड़ा

*******

वक़्त के थपेड़ों में, सब कुछ अचानक, ध्वस्त हुआ
न सँभलने का वक़्त मिला, न वक़्त को दर्द हुआ,

ये क्यों हुआ, ख़ुशियाँ लुट गईं, मातम पसर गया
पिता का सँजोया, हर सपना, टूटकर बिखर गया,

बेरहम वक़्त ने, पिता से हमारा नाता, छीन लिया
हम देख सके न पार्थिव शारीर, अग्नि ने जला दिया,

जीवन से पलायन की, माँ ने भी कर ली थी तैयारी
देख बच्चों की मूक व्यथा, वह ख़ुद को थी सँभाली,

बिना ज़वाब माँ थी, मौन सवालों से, हम रोज़ घिरते
कैसे क्या होगा, ये सवाल, हम भी तो किससे पूछते,

कठिन डगर बहुत मगर, माँ थी अदम्य साहस वाली
किया पिता का सपना पूरा, कभी न वो हिम्मत हारी,

कठिनाइयाँ ख़त्म हुईं, पर अब भी, रह-रह दिल है रोता
अब भी सोच मन घबराता, जो दिन था हमने गुज़ारा,

विस्मृत कर अपने सुख, सतत करती पूर्ण, माँ कर्त्तव्य
जिस उम्र के हम हैं अब, हुआ उसी उम्र में, माँ का वैधव्य,

बड़े हुए हम, अब भी नहीं मान सके, छूट गया बचपना
कैसी अन्तःपीड़ा से, गुज़री होगी, उस उम्र में, मेरी माँ!

- जेन्नी शबनम (17. 7. 1998)
_________________________________

(yeh rachna main tab likhi thee jab mere pita kee mrityu ke 20 saal pure hue they aur us samay meri umrra utni hee thee jitni pita ki mrityu ke samay meri maa ki thee.)

maa kee antah peeda

*******

waqt ke thapedon mein, sab kuchh achaanak, dhvast hua
na sambhalne ka waqt mila, na waqt ko dard hua,

ye kyon hua, khushiyan lut gayeen, maatam pasar gaya
pita ka sanjoya, har sapna, tootkar bikhar gaya,

beraham waqt ne, pita se hamaara naata, chheen liya
hum dekh sake na paarthiv sharir, agni ne jala diya,

jivan se palaayan ki, maa ne bhi kar li thi taiyaari
dekh bachchon ki mook vyatha, wah kud ko thi sambhaali,

bina jawaab maa thi, maun sawaalon se, hum roz ghirte
kaise kya hoga, ye sawaal, hum bhi to kisase puchhte,

kathin dagar bahut magar, maa thi adamya saahas wali
kiya pita ka sapana pura, kabhi na wo himmat haari,

kathinaaiyaan khatm huin, par ab bhi, rah-rah dil hai rota
ab bhi soch man ghabraata, jo din thaa hamne guzaara,

vismrit kar apne sukh, satat karati purn, maa kartavya
jis umrra ke hum hain ab, hua usi umrra men, maa ka vaidhavya,

bade huye hum, ab bhi nahin maan sake, chhoot gaya bachpanaa
kaisi antah peeda se, guzri hogi, us umra mein, meri maa!

- Jenny Shabnam (17. 7. 1998)
______________________________________