मंगलवार, 23 जून 2020

675. इनार

इनार 

******* 

मन के किसी कोने में   
अब भी गूँजती हैं कुछ धुनें।     
रस्सी का एक छोर पकड़   
छपाक-से कूदती हुई बाल्टी   
इनार पर लगी हुई चकरी से   
एक सुर में धीरे-धीरे ऊपर चढ़ती बाल्टी   
टन-टन करती बड़ी बाल्टी, छोटी बाल्टी 
लोटा-कटोरा और बाल्टी-बटलोही   
सब करते रहते खूब बतकही   
दाँत माँजना, बर्तन माँजना   
कपड़ा फींचना, दुःख-सुख गुनना   
ननद-भौजाई की हँसी-ठिठोली   
सास-पतोह की नोक-झोंक   
बाबा-दादी के आते ही, घूँघट काढ़ करती हड़बड़ी   
चिल्ल-पों करते बच्चों का नहाना   
तुरहा-तुरहिन का आकर साँसे भरना   
प्यासे बटोही की अँजुरी में   
बाल्टी से पानी उड़ेल-उड़ेल पिलाना   
लोटा में पानी भरकर सूरज को अर्घ्य देना।   
रोज़-रोज़ वही दृश्य पर इनार चहकता हर दिन   
भोर से साँझ प्यार लुटाता रुके बिन।   
एक सामूहिक सहज जीवन   
समय के साथ बदला मन,   
दुःख-सुख का साथी इनार, अब मर गया है   
चापाकल घर-घर आ गया है।   
परिवर्तन जीवन का नियम है   
पर कुछ बदलाव टीस दे जाता है,   
आज भी इनार बहुत याद आता है।   

- जेन्नी शबनम (23. 6. 2020) 
_________________________________