मंगलवार, 20 अगस्त 2019

622. औरत (10 क्षणिका)

औरत 

*******

1.
औरत 
   
*******   

एक चुटकी नमक   
एक चुटकी सिन्दुर   
एक चुटकी ज़हर   
मुझे औरत करते रहे   
ज़िन्दगी भर।   


2. 
विद्रोह
   
*******   

यूँ मुस्कुराना   
ख़ुद से विद्रोह-सा लगता है   
पर समय के साथ चुपचाप   
विद्रोही बन जाती हैं औरतें   
अपने उन सवालों से घिरी हुई   
जिनके जवाब वे जानती हैं   
और वक़्त पर देती हैं   
विद्रोही औरतें।   


3. 
समीकरण 
  
*******   

जीवन का समीकरण   
अनुभवों का जोड़   
उम्र का घटाव   
भावनाओं का गुणा-भाग   
अंतत: जीवन शून्य।   


4.
ताना-बाना   

*******   

जीवन का ताना-बाना   
उल्टा-पुल्टा चलता रहा 
समय यूँ ही सधता रहा   
कभी कुछ उलझा, कभी कुछ सुलझा 
कभी कुछ टूटकर गिरता रहा   
समय सब समझता रहा।   


5. 
मैना   

*******   

महल का एक अदना खिलौना   
सोने का एक पिंजरा   
पिंजरे में रहती थी एक मैना   
वो रूठे या हँसे परवाह किसे   
दाना-पानी मिलता था जीभर   
फुर्र-फुर्र उड़कर करतब दिखाती   
इतनी ही है बस उसकी कहानी   
सब कहते वह बड़ी तक़दीरवाली।   


6.
बेशऊर   

******   

छोटी-छोटी डिब्बियों में भरकर   
सीलबंद कर दिए सारे हुनर   
यूँ इसके पहले भी बेशऊर कहलाती थी   
पर अब संतोष है   
सारा हुनर ओझल है सबसे   
अब उसका अपमान नहीं होता।   


7.
दिठौना   

*******   

दिठौना तो हर रोज़ लगाई   
भूले से भी कभी न चूकी   
नज़रें तो झुकी ही रही   
औरतपना कभी न बिसरी   
फिर ये काली परछाईं कैसी?   
काला जादू हुआ ये कैसे?   
ओह! मर्द औरत में   
दिठौने ने फ़र्क किया।  


8.
शाइस्ता   

*******   

कहाँ से ढूँढ कर लाऊँ वो शाइस्ता   
जो ख़िदमत करे मगर शिकवा नहीं   
बेशअउरी, बेअदबी तुम्हे पसंद नहीं   
और अदब में रहकर जुल्म सहना   
इस ज़माने की फितरत नहीं।   

(शाइस्ता - सभ्य / सुसंकृत)   


9.
पिछली रोटी   

*******   

पहली रोटी भैया की   
अंतिम रोटी अम्मा की   
यही हमारी रीत है भैया   
यही मिली इक सीख है भैया   
बहुत पुराना वादा है   
कूल की ये मर्यादा है   
ये बेटी का सत है भैया   
ये औरतों का पथ है भैया।   


10.
वापसी   

*******   

ख़ुदा जाने क्या हो   
चीज़ो को भूलते-भूलते   
कहीं ख़ुद को न भूला बैठूँ   
यूँ किसी ने मुझे याद रखा भी नहीं   
अपनी याद तो ख़ुद ही रखी अबतक   
अब जो ख़ुद को भुला दिया   
फिर वापसी कैसे?   


- जेन्नी शबनम (20. 8. 2019)
__________________