गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

705. मुट्ठी से फिसल गया

मुट्ठी से फिसल गया 


******* 

निःसंदेह, बीता कल नहीं लौटेगा   
जो बिछड़ गया, अब नहीं मिलेगा   
फिर भी रोज़-रोज़ बढ़ती है आस   
कि शायद मिल जाए वापस   
जो जाने अनजाने, बंद मुट्ठी से फिसल गया।   
खुशियों की ख़्वाहिश. गो दुखों की है फ़रमाइश   
पर मन समझता नहीं, हर पल ख़ुद से उलझता है   
हर रोज़ की यही व्यथा   
कौन सुने इतनी कथा?   
वक़्त को दोष देकर   
कोई कैसे ख़ुद को निर्दोष कहेगा?   
क्यों दूसरों का लोर-भात एक करेगा?   
बहाने क्यों?   
कह दो कि बीता कल शातिर खेल था   
क्योंकि अवांछित संबंधों का मेल था   
जो था सब बेकार था, अविश्वास का भण्डार था   
अच्छा हुआ कि बंद मुट्ठी से फिसल गया।   
अमिट दूरियों का अंतहीन सिलसिला है   
उम्मीदों के सफ़र में आसमान-सा सन्नाटा है   
पर अतीत के अवसाद में कोई कबतक जिए   
कितने-कितने पीर मन में लेके फिरे,   
वक़्त भी वही उसकी चाल भी वही   
बरजोरी से उससे छीननी होगी खुशियाँ।   
नहीं करना है अब शोक, कि साथ चलते-चलते   
चंद क़दमों का फ़ासला, मीलों में बढ़ गया   
रिश्ते-नाते नेह-बंधन मन की देहरी में ढह गया   
देखते-देखते सब, बंद मुट्ठी से फिसल गया।   

- जेन्नी शबनम (31. 12. 2020)
_____________________________________