रविवार, 26 सितंबर 2010

177. दंभ हर बार टूटा / dambh har baar toota (क्षणिका)

दंभ हर बार टूटा

*******

रिश्ते बँध नहीं सकते, जैसे वक़्त नहीं बँधता
पर रिश्ते रुक सकते हैं, वक़्त नहीं रुकता
फिर भी कुछ तो है समानता
न दिखे पर दोनों साथ है चलता, 
नहीं मालूम दूरी बढ़ी, या फ़ासला न मिटा
पर कुछ तो है कि
साथ होने का दंभ, हर बार टूटा 

- जेन्नी शबनम (8. 9. 2010)
____________________

dambh har baar toota

*******

rishte bandh nahin sakte, jaise waqt nahin bandhta
par rishte ruk sakte hain, waqt nahin rukta
fir bhi kuchh to hai samaanta
na dikhe par donon saath hai chalta,
nahin maloom doori badhi, yaa faasla na mita
par kuchh to hai ki
saath hone ka dambh, har baar toota.

- Jenny Shabnam (8. 9. 2010)
________________________