मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

50. रिश्ते (क्षणिका)

रिश्ते 

*******

रिश्तों की भीड़ में
प्यार गुम हो गया है,
प्यार ढूँढ़ती हूँ
बस
रिश्ते ही हाथ आते हैं 

- जेन्नी शबनम (7. 4. 2009)
_____________________

49. ज़िन्दगी एक बेशब्द किताब (पुस्तक - लम्हों का सफ़र - 92)

ज़िन्दगी एक बेशब्द किताब

*******

पन्नों से सिमट, ज़िन्दगी, हाशिए पर आ पहुँची
हसरतें हाशिए से, किताब तक जा पहुँची,
मालूम नहीं ज़िन्दगी की इबारत स्याह थी
या कि स्याही का रंग फीका था
शब्द अलिखित रह गए। 

शायद ज़िन्दगी, किताब के पन्नों से निकल
अपना वजूद ढूँढ़ने चल पड़ी,
किताब की इबारत और हाशिए क्या
अब तो शीर्षक भी लुप्त हो गए,
ज़िन्दगी बस, काग़ज़ का पुलिंदा भर रह गई,
जिसमें स्याही के कुछ बदरंग धब्बे और
हाशिए पर कुछ आड़े-तिरछे निशान छूट गए। 

शब्द-शब्द ढूँढ़कर, एहसासों की स्याही से
पन्नों पर उकेरी थी अपनी ज़िन्दगी,
सोचती थी, कभी तो कोई पढ़ेगा मेरी ज़िन्दगी,
बेशब्द बेरंग पन्ने
कोई कैसे पढ़े?

क्या मालूम, स्याही फीकी क्यों पड़ गई?
क्या मालूम, ज़िन्दगी की इबारत धुँधली क्यों हो गई?
क्या मालूम, मेरी किताब रद्दी क्यों हो गई?

शायद मेरी किताब और मेरी ज़िन्दगी
सफ़ेद-स्याह पन्नों की अलिखित कहानी है!
मेरी ज़िन्दगी एक बेशब्द किताब है!

- जेन्नी शबनम (2. 4. 2009)
________________________________________