रविवार, 5 अप्रैल 2009

48. वक़्त मिले न मिले (क्षणिका)

वक़्त मिले न मिले 

*******

जो भी लम्हा मिले
चुन-चुनकर बटोरती हूँ,
दामन में अपने
जतन से सहेजती हूँ,
न जाने फिर कभी
वक़्त मिले न मिले!

- जेन्नी शबनम (1. 4. 2009)
_____________________