शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

182. नहीं होता अभिनन्दन (क्षणिका)/ nahin hota abhinandan (kshanikaa)

नहीं होता अभिनन्दन

*******

सहज जीवन 
मन का बंधन,
पार होने की चाह 
निराशा और क्रंदन,
अनवरत प्रयास 
विफलता और रुदन,
असह्य प्रतिफल 
नहीं होता अभिनन्दन!

- जेन्नी शबनम (15. 10. 2010)
_____________________

nahin hota abhinandan

*******

sahaj jivan 
mann ka bandhan,
paar hone kee chaah 
niraasha aur krandan,
anwarat prayaas 
vifalta aur rudan,
asahya pratifal 
nahin hota abhinandan!

- Jenny Shabnam (15. 10. 2010)
__________________________