रविवार, 2 मई 2010

139. थोड़ा आराम चाहिए (क्षणिका) / thoda aaraam chaahiye (kshanika)

थोड़ा आराम चाहिए

*******

मेरे अल्फ़ाज़ों को, मेरे जज़्बातों को
समझो तुम भी और ज़माना भी
फ़क़त एहसास चाहिए 
थोड़े लम्हात चाहिए,
क्या-क्या न हुआ, अब बहुत हुआ
न सिर्फ़ तुमसे, मुझे ख़ुद से
अब विराम चाहिए
थोड़ा आराम चाहिए

- जेन्नी शबनम (28. 4. 2010)
_______________________________

thoda aaraam chaahiye

*******

mere alfaazon ko, mere jazbaaton ko
samjho tum bhi aur jamaana bhi
faqat ehsaas chaahiye
thode lamhaat chaahiye,
kya-kya na hua, ab bahut hua
na sirf tumse, mujhe khud se
ab viraam chaahiye
thoda aaraam chaahiye.

- Jenny Shabnam (28. 4. 20101)
______________________________