सोमवार, 31 मई 2010

145. बँटे हुए तुम / bante hue tum

बँटे हुए तुम

*******

क्या कभी भी सोचा या जाना तुमने
क्यों दूर हो गई ख़ुद ही मैं तुमसे,
एक-एक लम्हा जो साथ जिए थे
न पूछो, बड़ा दर्द देते थे,
आस हो, तो फिर भी काँटों को सह लूँ
हर चुभन को फूलों की चुभन सोचूँ,
कभी ख़ुद से हारी नहीं
पर तुमको जीती भी तो नहीं,
मेरा मौन समर्पण मुझे तोड़ गया
और शायद यही, तुमको मुझसे दूर कर गया,
मैं, मैं हूँ, ये तुम क्यों न मान सके
हर रोज़ एक नयी उर्वशी तलाशते रहे,
अब चाहती भी नहीं, वापस लौटो तुम
अब मुझे भी स्वीकार्य नहीं, बँटे हुए तुम,
कोई शिकायत मेरी, नहीं पहुँचेगी अब तुम तक
मिलने की व्याकुलता रहेगी ज़ब्त मुझ तक,
जाओ, तुमको आज़ाद किया
ख़ुद ही अपना दिल वीरान किया,
प्रेम पथिक, तुम बन न सके कभी मेरे
देती दुआ 'शब' -
जीओ प्रेम में, तो किसी के 

- जेन्नी शबनम (31. 5. 2010)
__________________________


bante hue tum.

*******

kya kabhi bhi socha ya jaana tumne
kyon door ho gai khud hin main tumse,
ek-ek lamha jo saath jiye the
na puchho, bada dard dete theye,
aas ho, to phir bhi kaanton ko sah loon
har chubhan ko phulon ki chubhan sochoon,
kabhi khud se haari nahin
par tumko jiti bhi to nahin,
mera moun samarpan mujhe tod gaya
aur shaayad yahi, tumko mujhse door kar gaya,
main, main hun, ye tum kyon na maan sake
har roz ek nayee urvashi talaashte rahe,
ab chaahti bhi nahin, wapas louto tum
ab mujhe bhi swikaarya nahin, bante hue tum,
koi shikaayat meri, nahin pahunchegi ab tum tak
milane ki vyaakulta rahegi zabt mujh tak,
jao, tumko aazaad kiya
khud hin apna dil weeran kiya,
prem pathik, tum ban na sake kabhi mere
deti dua 'shab' -
jio prem mein, to kisi ke.

- Jenny Shabnam (31. 5. 2010)
____________________________

शनिवार, 22 मई 2010

144. रूख़सत पे कैसा ग़म (तुकांत) / rukhsat pe kaisa gham (tukaant)

रूख़सत पे कैसा ग़म

*******

रूख़सत पे कैसा ग़म
नहीं अपना, वैसा ग़म 

यक़ीन की बस्ती लूटी
बदक़िस्मती, जैसा ग़म 

फ़िक्र नहीं पर नाता है
अजब है, ये पैसा ग़म 

मुकम्मल नहीं ये जीवन
चाहो नहीं, तैसा ग़म

दिल टूटा बिखरी 'शब'
न हो कभी, ऐसा ग़म 

- जेन्नी शबनम (17. 5. 2010)
_______________________

rukhsat pe kaisa gam

*******

rukhsat pe kaisa gam
nahin apna, waisa gam.

yaqeen ki basti luti
badqismati, jaisa gam.

fikrr nahin par naata hai
ajab hai, ye paisa gam.

mukammal nahin ye jiwan
chaaho nahin, taisa gam.

dil tuta bikhri 'shab'
na ho kabhi, aisa gam.

- Jenny Shabnam (17. 5. 2010)
________________________


सोमवार, 17 मई 2010

143. अलविदा कहते हैं वो (तुकांत) / alvida kahte hain wo (tukaant)

अलविदा कहते हैं वो

*******

ज़मीन-ए-दिल में बसा, हमको रखते हैं वो
कभी पूछी  ख़ैरियत, कभी बस चल देते हैं वो

रूठे को मनाना, है अजब शौक उनको
हर बात पर ख़फ़ा, हमको करते हैं वो 

राहों ने टोका, पर भूल जाते हैं रास्ता
हमसे हमारा पता, हर रोज़ पूछते हैं वो 

आईना भी थक गया, याद करके उन्हें
पल-पल रूप कितने, जाने बदलते हैं वो 

हम कभी भी न मिले, ये मंज़ूर है उन्हें
ग़र मिले तो तमाम उम्र, माँगते हैं वो

उनका अंदाज़-ए-मोहब्बत, तो ज़रा देखिए
न हो तकरार हमसे, बेचैन रहते हैं वो

मुद्दतों इश्क़ का पैग़ाम, हमको भेजते रहे
इत्तिफ़ाकन जो मिल गए, बड़ा शर्माते हैं वो

साथ जीने की कसमें, हमको देते हैं रोज़
इश्क़ में मर जाने की कसम, खाते हैं वो 

उनकी आँखों में दिखती है, मेरी आशिकी
हुआ जो सामना, हमसे ही नज़रें चुराते हैं वो 

ताउम्र साथ चलेंगे, वो रोज़ कहते हैं 'शब'
जब भी मिले, हमको अलविदा कहते हैं वो 

- जेन्नी शबनम (16. 5. 2010)
______________________________

alvida kahte hain wo

*******

zameen-e-dil mein basa, humko rakhte hain wo
kabhi puchhi khairiyat, kabhi bas chal dete hain wo.

ruthe ko manaana, hai ajab shauk unko
har baat par khafa, humko karte hain wo.

raahon ne toka, par bhul jaate hain raasta
hamse hamara pata, har roz puchhte hain wo.

aaiina bhi thak gaya, yaad karke unhein
pal-pal roop kitne, jaane badalte hain wo.

hum kabhi bhi na mile, ye manzoor hai unhein
gar mile to tamaam umrr, maangte hain wo.

unka andaaz-e-mohabbat, to zara dekhiye
na ho takraar humse, bechain rahte hain wo.

muddaton ishq ka paighaam, humko bhejte rahe
ittifaakan jo mil gaye, bada sharmaate hain wo.

saath jine ki kasmein, humako dete hain roz
ishq mein mar jaane ki kasam, khaate hain wo.

unki aankhon men dikhti hai, meri aashiqi
hua jo saamna, humse hi nazarein churaate hain wo.

taaumrr saath chalenge, wo roz kahte hain 'shab'
jab bhi mile, hamako alavida kahte hain wo.

- Jenny Shabnam (16. 5. 2010)
___________________________________

मंगलवार, 11 मई 2010

142. सोई नहीं मर गई है रात (तुकांत) / soi nahin mar gai hai raat (tukaant)

सोई नहीं मर गई है रात

*******

भटककर बहुत, थक गई है रात
आगोश में अपने ही, सोई है रात 

किसी ने थपकी दे, सुलाया कभी
वह नींद कहीं, छोड़ आई है रात 

कोई जागा था, तमाम रात कभी
रह गई तन्हाई, और रोई है रात

चाह थी, वस्ल की एक रात मिले
हर रात जागकर, बिताई है रात

किसी की नज़्म बनी, रात मगर
अधूरी नज़्म ही, बन पाई है रात 

आस टूटी, अब कैसे दिखे उजाला
मान लो, अपना नहीं कोई है रात 

जागती रात, एक अँधियारा है बस
जागकर हर सपना, खोई है रात 

उदासियों में भी, चहकती थी 'शब'
ओह! वो सोई नहीं, मर गई है रात 

- जेन्नी शबनम (10. 5. 2010)
_________________________

soi nahin mar gai hai raat

*******

bhatakkar bahut, thak gai hai raat
aagosh mein apne hi, soi hai raat.

kisi ne thapki de, sulaaya kabhi
wah nind kahin, chhod aai hai raat.

koi jaaga tha, tamaam raat kabhi
rah gai tanhaai, aur roi hai raat.

chaah thi, wasl ki ek raat mile
har raat jaagkar, bitai hai raat.

kisi ki nazm bani, raat magar
adhuri nazm hi, ban pai hai raat.

aas tooti, ab kaise dikhe ujaala
maan lo, apna nahin koi hai raat.

jaagati raat, ek andhiyaara hai bas
jaagkar har sapna, khoi hai raat.

udaasiyon mein bhi, chahakti thi 'shab'
ohh! wo soi nahin, mar gai hai raat.

- Jenny Shabnam (10. 5. 2010)
_____________________________

रविवार, 9 मई 2010

141. माँ की अन्तःपीड़ा / maa kee antah peeda (पुस्तक - लम्हों का सफ़र - 51)

(यह रचना मैं तब लिखी थी जब मेरे पिता की मृत्यु के 20 साल पूरे हुए थे और उस समय मेरी उम्र उतनी ही थी जितनी पिता की मृत्यु के समय मेरी माँ की थी)

माँ की अन्तःपीड़ा

*******

वक़्त के थपेड़ों में, सब कुछ अचानक, ध्वस्त हुआ
न सँभलने का वक़्त मिला, न वक़्त को दर्द हुआ,

ये क्यों हुआ, ख़ुशियाँ लुट गईं, मातम पसर गया
पिता का सँजोया, हर सपना, टूटकर बिखर गया,

बेरहम वक़्त ने, पिता से हमारा नाता, छीन लिया
हम देख सके न पार्थिव शारीर, अग्नि ने जला दिया,

जीवन से पलायन की, माँ ने भी कर ली थी तैयारी
देख बच्चों की मूक व्यथा, वह ख़ुद को थी सँभाली,

बिना ज़वाब माँ थी, मौन सवालों से, हम रोज़ घिरते
कैसे क्या होगा, ये सवाल, हम भी तो किससे पूछते,

कठिन डगर बहुत मगर, माँ थी अदम्य साहस वाली
किया पिता का सपना पूरा, कभी न वो हिम्मत हारी,

कठिनाइयाँ ख़त्म हुईं, पर अब भी, रह-रह दिल है रोता
अब भी सोच मन घबराता, जो दिन था हमने गुज़ारा,

विस्मृत कर अपने सुख, सतत करती पूर्ण, माँ कर्त्तव्य
जिस उम्र के हम हैं अब, हुआ उसी उम्र में, माँ का वैधव्य,

बड़े हुए हम, अब भी नहीं मान सके, छूट गया बचपना
कैसी अन्तःपीड़ा से, गुज़री होगी, उस उम्र में, मेरी माँ!

- जेन्नी शबनम (17. 7. 1998)
_________________________________

(yeh rachna main tab likhi thee jab mere pita kee mrityu ke 20 saal pure hue they aur us samay meri umrra utni hee thee jitni pita ki mrityu ke samay meri maa ki thee.)

maa kee antah peeda

*******

waqt ke thapedon mein, sab kuchh achaanak, dhvast hua
na sambhalne ka waqt mila, na waqt ko dard hua,

ye kyon hua, khushiyan lut gayeen, maatam pasar gaya
pita ka sanjoya, har sapna, tootkar bikhar gaya,

beraham waqt ne, pita se hamaara naata, chheen liya
hum dekh sake na paarthiv sharir, agni ne jala diya,

jivan se palaayan ki, maa ne bhi kar li thi taiyaari
dekh bachchon ki mook vyatha, wah kud ko thi sambhaali,

bina jawaab maa thi, maun sawaalon se, hum roz ghirte
kaise kya hoga, ye sawaal, hum bhi to kisase puchhte,

kathin dagar bahut magar, maa thi adamya saahas wali
kiya pita ka sapana pura, kabhi na wo himmat haari,

kathinaaiyaan khatm huin, par ab bhi, rah-rah dil hai rota
ab bhi soch man ghabraata, jo din thaa hamne guzaara,

vismrit kar apne sukh, satat karati purn, maa kartavya
jis umrra ke hum hain ab, hua usi umrra men, maa ka vaidhavya,

bade huye hum, ab bhi nahin maan sake, chhoot gaya bachpanaa
kaisi antah peeda se, guzri hogi, us umra mein, meri maa!

- Jenny Shabnam (17. 7. 1998)
______________________________________

बुधवार, 5 मई 2010

140. मेरी यायावरी क्यों / meri yaayaavari kyon

मेरी यायावरी क्यों

*******

तुम्हारी गंध की तलाश में भटकती रही
रेत के समंदर में पहरों तलाशती रही
कभी आसमान तक गई
कभी धरती से पूछी
कभी चाँद तारों के आगे रोई
कभी सूरज के आगे गिड़गिड़ाई
कभी हवा से दुखड़ा सुनाई
कभी बरखा से पूछी,
बताओ न तुम कहाँ हो?

युगों से है मेरी ये यायावरी
अजब अबूझ पहेली ज़िन्दगी
जाने कहाँ-कहाँ मैं बौराई फिरती
हो मुझमें समाए ज्यों गंध कस्तूरी,
जाने कैसी है ये परिणति
इस जीवन की भी है यही नियति!

मेरे ही हिस्से में
आख़िर क्यों?
मेरी यायावरी क्यों?
बताओ न!

- जेन्नी शबनम (5. 5. 2010)
_________________________________

meri yaayaavari kyon

*******

tumhaari gandh ki talaash mein bhatakti rahi
ret ke samandar mein pahron talaashti rahi
kabhi aasamaan tak gai
kabhi dharti se puchhi
kabhi chaand taaron ke aagey roi
kabhi sooraj ke aagey gidgidaai
kabhi hawa se dukhda sunai
kabhi barkha se puchhi,
bataao na tum kahaan ho?

yugon se hai meri ye yayavari
ajab aboojh paheli zindagi
jaane kahaan-kahaan main bauraai firti
ho mujhmein samaaye jyon gandh kastoori,
jaane kaisi hai ye parinati
is jivan ki bhi hai yahi niyati!

mere hi hisse mein
akhir kyon?
mere yayavari kyo?
bataao na...!

- Jenny Shabnam (5. 5. 2010)
______________________________

रविवार, 2 मई 2010

139. थोड़ा आराम चाहिए (क्षणिका) / thoda aaraam chaahiye (kshanika)

थोड़ा आराम चाहिए

*******

मेरे अल्फ़ाज़ों को, मेरे जज़्बातों को
समझो तुम भी और ज़माना भी
फ़क़त एहसास चाहिए 
थोड़े लम्हात चाहिए,
क्या-क्या न हुआ, अब बहुत हुआ
न सिर्फ़ तुमसे, मुझे ख़ुद से
अब विराम चाहिए
थोड़ा आराम चाहिए

- जेन्नी शबनम (28. 4. 2010)
_______________________________

thoda aaraam chaahiye

*******

mere alfaazon ko, mere jazbaaton ko
samjho tum bhi aur jamaana bhi
faqat ehsaas chaahiye
thode lamhaat chaahiye,
kya-kya na hua, ab bahut hua
na sirf tumse, mujhe khud se
ab viraam chaahiye
thoda aaraam chaahiye.

- Jenny Shabnam (28. 4. 20101)
______________________________