Saturday, 10 April 2010

133. मैं नज़्म बनती रही / main nazm banti rahi

मैं नज़्म बनती रही

*******

ज़िन्दगी ढ़लती रही, मैं नज़्म बनती रही
उनकी ख़्वाहिश पर, मैं ग़ज़ल बनती रही !

रोज़ नयी सूरत कहाँ से लाऊँ, बताएँ ज़रा
जब भी मिले हैं वो, मैं तस्वीर बनती रही !

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब ही सही मगर, मैं नादान बनती रही !

काँधा देंगे वो जब फ़ना हो जाऊँगी जहाँ से
जीकर उनके क़दमों की, मैं धूल बनती रही !

जब भी पुकारा उनको रहे डूबे गैरों में वो
उनकी हर एक चाह पे, मैं ख़ाक बनती रही !

इश्क की ताज़ीर होती है अज़ब देखो 'शब'
ख़ता उनकी मगर, मैं गुनहगार बनती रही !
______________________

ताज़ीर - सज़ा / दंड
______________________

- जेन्नी शबनम (10. 4. 2010)

_________________________________________

main nazm banti rahi

*******

zindgi dhalti rahi, main nazm banti rahi
unki khwaahish par, main ghazal banti rahi.

roz nayee soorat kahaan se laaun bataayen zara
jab bhi mile hain wo, main tasweer banti rahi.

khabar mujhe bhi hai ki wo ishq karte nahin
khwaab hin sahi magar, main naadan banti rahi.

kaandha denge wo jab fana ho jaaungi jahaan se
jikar unke kadmon ki, main dhool banti rahi.

jab bhi pukara unko rahe doobe gairon mein wo
unki har ek chaah pe, main khaak banti rahi.

ishq ki taazeer hoti hai azab dekho 'shab'
khata unki magar, main gunahgaar banti rahi.

___________________________

taazeer - saza / dand

___________________________

- Jenny Shabnam (10. 4. 2010)

__________________________________________________

10 comments:

Randhir Singh Suman said...

nice

रश्मि प्रभा... said...

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब हीं सही मगर, मैं नादान बनती रही !
....
एक अलग सांचे में मासूम प्यार की बानगी है,
पढ़कर प्यार भरी हवा छू गई

Brajdeep Singh said...

vo samajh na paaye ,koi unke kitne kareeb tha,vo bus apni dhun main jiye jaa rahe the
bahut sundar rachna

खोरेन्द्र said...

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब हीं सही मगर, मैं नादान बनती रही !

bahut khub ........sundar

डॉ. जेन्नी शबनम said...

Suman ने कहा…
nice
___________

suman ji,
bahut shukriya.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

रश्मि प्रभा... ने कहा…
ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब हीं सही मगर, मैं नादान बनती रही !
....
एक अलग सांचे में मासूम प्यार की बानगी है,
पढ़कर प्यार भरी हवा छू गई
______________________

rashmi ji,
meri rachna ko aapne pasand kiya man se shukriya aapka.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

abhay ने कहा…
vo samajh na paaye ,koi unke kitne kareeb tha,vo bus apni dhun main jiye jaa rahe the
bahut sundar rachna
______________________

abhay ji,
meri rachna ke bhaaw ko aapne mahsoos kiya, meri rachna ki safalta hai, bahut shukriya.

डॉ. जेन्नी शबनम said...

kishor kumar khorendra ने कहा…
ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब हीं सही मगर, मैं नादान बनती रही !

bahut khub ........sundar
____________

kishor ji,
meri rachna ko sada apna sneh dene keliye bahut aabhar.

Shri"helping nature" said...

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब हीं सही मगर, मैं नादान बनती रही !
mr jaun aapki is line pr khubsubdr

डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी said...

shandaar abhivyakti !!!!!!!!!
badhai aapki is rachana ke liye

JK SONI
www.jksoniprayas.blogspot.com