Monday, 14 September 2009

84. उसका आख़िरी कलाम है / uska aakhiree kalaam hai

उसका आख़िरी कलाम है

*******

हर ख़्वाब मेरा, वो पालता रहा, जो पल-पल मन मेरा चाहता रहा,
कितना जान-निसार वो इंसान है, मेरा सुकून उसकी ज़िन्दगी का करार है !

मेरी मुस्कुराहटों से खिलता रहा, मुझे तस्वीर में रोज़ ढूँढ़ता रहा,
दर्द मेरा अपने सीने में भरता है, मुझे तराशना बस उसका कमाल है !

मेरे ज़ख्म रोज़ सिलता रहा, जो ज़माने से मुझे मिलता रहा,
कैसे कह दें कि हमें दूर जाना है, उसके हाथ में ज़िन्दगी की कमान है !

मुझे हर्फ़-हर्फ़ रोज़ सुनता रहा, जाने कितने ख़्वाब बुनता रहा,
हर सफ़हे पर बस मेरा नाम है, ये शायद उसका आख़िरी कलाम है !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 6, 2009)

________________________________

uska aakhiree kalaam hai...

*******

har khwaab mera wo paaltaa rahaa, jo pal-pal man mera chaahtaa raha,
kitna jaan-nisaar wo insaan hai, mera sukoon uski zindgi ka karaar hai.

meri muskuraahaton se khiltaa raha, mujhe tasweer mein roz dhundhta raha,
dard mera apne seene mein bhartaa hai, mujhe taraashnaa bas uskaa kamaal hai.

mere zakham roz siltaa raha, jo zamaane se mujhe miltaa raha,
kaise kah dein ki hamein door janaa hai, uske haath mein zindgi ka kamaan hai.

mujhe harf-harf roz suntaa rahaa, jaane kitne khwaab buntaa rahaa,
har safahe par bas mera naam hai, ye shaayad uskaa aakhiree kalaam hai.

- jenny shabnam (september 6, 2009)

__________________________________________________________________

5 comments:

रश्मि प्रभा... said...

aur yahi rahe aakhiri kalam....tera naam

ρяєєтii said...

suparb di..

अनिल कान्त said...

आप बहुत अच्छा लिखती हैं

शशि "सागर" said...

jenny di
bahut hee behtareen rachna hai...har antara seedhe dil tak pahunchtee hai.

Unknown said...

बहुत ही ख़ूबसूरत रचना खोज निकाली है आपने......