Thursday, 19 September 2019

628. तमाशा

तमाशा 

*******   

सच को झूठ और झूठ को सच कहती है दुनिया   
इसी सच-झूठ के दरमियाँ रहती है दुनिया   
खून के नाते हों या किस्मत के नाते   
फ़रेब के बाज़ार में सब ख़रीददार ठहरे   
सहूलियत की पराकाष्ठा है   
अपनों से अपनों का छल   
मन के नातों का कत्ल   
कोखजायों की बदनीयती   
सरेबाजार शर्मसार है करती   
दुनिया को सिर्फ नफ़रत आती है   
दुनिया कब प्यार करती है   
धन-बल के लोभ में इंसानियत मर गई है   
धन के बाजार में सबकी बोली लग गई है   
यकीन और प्रेम गौरैया-सी फ़ुर्र हुई   
तमाम जंगल झुलस गए   
कहाँ नीड़ बसाए परिन्दा   
कहाँ तलाशे प्रेम की बगिया   
झूठ-फरेब के चीनी माँझे में उलझ के   
लहूलुहान हो गई है ज़िन्दगी   
ऐसा लगता है खो गई है ज़िन्दगी   
देखो मिट रही है ज़िन्दगी   
मौत की बाहों में सिमट रही है ज़िन्दगी   
आओ-आओ तमाशा देखो  
रिश्ते नातों का तमाशा देखो   
पैसों के खेल का तमाशा देखो   
बिन पैसों का तमाशा देखो।   

- जेन्नी शबनम (19. 9. 2019)   

______________________________

2 comments:

Rohitas ghorela said...

हालिया मंजर भी है
और आक्रोश भी है।
खीज भी है और घिन भी है
इस रचना में।


पधारें अंदाजे-बयाँ कोई और

Onkar said...

सुन्दर रचना