शुक्रवार, 1 मई 2020

660. गँवारू लड़की

गँवारू लड़की

*******   

एक गाँव की लड़की   
शहर में पनाह ढूँढती रही   
अपना नाम बता के अपना पता पूछती रही   
अपने हिस्से के कुछ किस्से लेकर   
सबके मन के द्वार खटखटाती थी   
थोड़ा अपनापन माँगती थी, मुट्ठी भर जमीन चाहती थी  
कभी किसी ने उसकी परवाह न की   
पर अब वह खुद भी बेपरवाह हो चुकी है   
न घर मिला न मन मिला न मान मिला   
न ठौर न ठिकाना मिला   
सबने कहा वह गँवारू है किसी काम की नहीं   
न शहर के लायक न किसी घर के लायक   
पर अब वह उदास नहीं रहती, अब उसकी चुप्पी टूट चुकी है   
वह पलायन न करेगी, ढ़ीठ होकर बढ़ेगी   
वह देसी बोली बोलती है, उसे गर्व है अपनी बोली पर   
वह गाँव की गँवार है, उसे गर्व है अपने गँवारूपन पर   
कमसे कम उसने सोंधी मिट्टी को तो चूमा है   
अपनी बोली में सपनों को पाला है   
शहर आ के भी जो गाँव से लाई थी, सब सँभाला है   
पेड़ पौधों को दुलराया है   
वह हाथ से खाती है, तो अन्न को पहचानती है   
धड़कनों से बात करती है, तो मन को पहचानती है   
खेतों डरेरों पर कूदती फाँदती, पशु पक्षियों से यारी निभाई है   
वो सारे रिश्ते जी के शहर आई है   
हाँ वह शहरी नहीं शहर के लिए पराई है   
पर वो बहुत प्यारे गाँव से आई है   
शायद इसलिए वह अबतक कंक्रीट पहन नहीं पाई   
मोम को ओढ़ के बैठी है, पत्थर बन नहीं पाई   
इस जंगल में खो नहीं पाई   
अच्छा है शहर की हो नहीं पाई   
वह गाँव की लड़की गँवारू है   
मगर अब शहर की नब्ज और शहरियों का शातिरपना पहचान गई है   
खुद को समझने लगी है शहर को जान गई है।   

- जेन्नी शबनम (1. 5. 2020)  
_______________________________________

5 टिप्‍पणियां:

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर = RAJA Kumarendra Singh Sengar ने कहा…

परिवर्तन और पहचान

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ...
गाँव के भोलेपन को ये शहर लीलने का प्रयास नित करता है ...
फिर भी कोमल मन में रहता है भोलापन ... बहुग्त भावपूर्ण ...

अजय कुमार झा ने कहा…

बहुत मुश्किल है अब ऐसे गंवारू पन को बचाए रखना असल में दुनिया में यही सब तो खो गया है

rameshwar kamboj ने कहा…

बहुत अच्छी काविता