मंगलवार, 20 जनवरी 2009

8. ख़्वाहिश... / Khwaahish...

ख़्वाहिश...

*******

एक क़तरा सूरज की किरण
और एक चुटकी चाँद की चाँदनी
एक अँजुरी जीने की ख़्वाहिश
और एक मुट्ठी अरमानों की ज्वाला,
बस इतनी ही चाह थी,
जाने कैसी साध थी ?
ये जो पाऊँ, जन्नत पा लूँ,
जाने कैसी उम्मीद थी ?

अब जो जन्नत पाई, ख़्वाहिश हुई
ख़ुदा, तुझे पा लूँ !
अब जो ख़ुदा पाई, ख़्वाहिश भी बढ़ी
संग तेरे ख़ुदा
एक जन्म और पा लूँ !

- जेन्नी शबनम (जनवरी 3, 2009)

________________________________________

Khwaahish...

*******

Ek qatra suraj ki kiran
Aur ek chutki chaand ki chaandni
Ek anjuri jine ki khwaahish
Aur ek mutthi armaanon ki jwaala,
Bus itni hi chaah thee,
Jaane kaisi saadh thee ?
Ye jo paaoon, jannat paa loon,
Jaane kaisi ummid thee ?

Ab jo jannat payee, khwahish hui
Khuda, tujhe paa loon !
Ab jo khuda payee, khwahish bhi badhi
Sang tere Khuda
ek janm aur paa loon !

- JennyShabnam (January 3, 2009)

***********************************************

9 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर ने कहा…

कल 09/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

vidya ने कहा…

बहुत सुन्दर जेन्नी जी..
सच है..चाहतों का कोई अंत नहीं..

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

अब जो जन्नत पाई, ख़्वाहिश हुई
ख़ुदा, तुझे पा लूँ,
अब जो खुदा पाई, ख़्वाहिश भी बढ़ी....

क्या खूब.... वाह!
सादर.

सदा ने कहा…

अब जो जन्नत पाई, ख़्वाहिश हुई
ख़ुदा, तुझे पा लूँ,
अब जो खुदा पाई, ख़्वाहिश भी बढ़ी
संग तेरे ख़ुदा, एक जन्म और पा लूँ |
वाह ...बहुत ही बढि़या भावमय करते शब्‍द ।

sushma verma ने कहा…

अब जो जन्नत पाई, ख़्वाहिश हुई
ख़ुदा, तुझे पा लूँ,
अब जो खुदा पाई, ख़्वाहिश भी बढ़ी
संग तेरे ख़ुदा, एक जन्म और पा लूँ |बहुत ही खुबसूरत ख़्वाहिश जरुर पूरी होगी.....

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति....सच में ख्वाहिशों का अंत कहाँ होता है...

मेरा मन पंछी सा ने कहा…

अब जो जन्नत पाई, ख़्वाहिश हुई
ख़ुदा, तुझे पा लूँ,
अब जो खुदा पाई, ख़्वाहिश भी बढ़ी
संग तेरे ख़ुदा, एक जन्म और पा लूँ |
सुंदर अभिव्यक्ती

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

vidha ने कहा…

kwahishe bhi sidhiya hai ,ek chadho to dusari samne...... behatarin abhivyakti.