Friday, 11 March 2011

219. चलते रहें हम...

चलते रहें हम...

*******

दूर आसमान के पार तक
या धरती के अंतिम छोर तक
हाथ थामे चलते रहें हम !
आओ कोई गीत गायें
प्रेम की बात करें
चलो यूँ ही चलते रहें हम !
तुम्हारी बाहों का सहारा
आँखें मूँद खो जाएँ
साथ चले स्वप्न चलते रहें हम !
'शब' तो जागती है रोज़
साथ जागो तुम भी कभी
और बस
चलते रहें हम !

- जेन्नी शबनम (10. 3. 2011)

_________________________________

5 comments:

Unknown said...

कोशिश जारी रहेगी,

अच्छा लिखा है

रश्मि प्रभा... said...

''शब'' तो जागती है रोज़
साथ जागो तुम भी कभी
और बस
चलते रहें हम !
waah ... bahut hi badhiyaa

kshama said...

''शब'' तो जागती है रोज़
साथ जागो तुम भी कभी
और बस
चलते रहें हम !
Bahut pyaree panktiyan hai...pooree rachana hee behad khoobsoorat hai!
Kabhi mere blogs pe bhee tashreef layen to badee khushee hogi!

सहज साहित्य said...

आँखें मूंद खो जाएँ
साथ चले स्वप्न
चलते रहें हम !
''शब'' तो जागती है रोज़
साथ जागो तुम भी कभी
और बस
चलते रहें हम !
दोनों साथ चलें इसी में जीवन की सार्थकता है । आपकी कविताओं की वाग्विदग्धता का तो कोई ज़वाब नहीं शबनम जी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

सुन्दर सन्देश देती बढ़िया रचना!