मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

17. मेरा अपना कुछ...

मेरा अपना कुछ...

*******

मेरा अपना एक टुकड़ा सूरज-चाँद है
एक कतरा धरती-आसमान है,
कुछ छींटे सुर्ख उजाले
कुछ स्याह अँधियारे हैं,
कुछ ख़ुशी के नग्मे
कुछ दास्ताँ ग़मगीन हैं,
थोड़े नासमझी के हश्र
थोड़े काबिलियत के दंभ हैं 

मुझे अपनी कहानी लिखनी है
इन 'कुछ' और 'थोड़े' जो मेरे पास हैं,
मुझे अपनी ज़िन्दगी जीनी है
ये 'अपने' जो मेरे साथ हैं 

- जेन्नी शबनम (फ़रवरी 20, 2009)

______________________________________

कोई टिप्पणी नहीं: