Thursday, December 3, 2009

105. मेरा अल्लाह मेरा राम / mera allah mera ram

मेरा अल्लाह मेरा राम

*******

आंते सिकुड़ी भूख़ से, मासूम जानों की बढ़ती कतार
तुम कहते हो, हम हैं लाचार, देता अल्लाह देता राम !

दुनिया एक छोटी सी, हैं सबने किए टुकड़े कई हज़ार,
ख़ुदा को भी बाँटा, किसी का अल्लाह किसी का राम !

हो अनुरागी या चाहे बैरागी, गुहार लगाते दर्शन की
मन में ढूँढ़ो वहीं बैठा, तुम्हारा अल्लाह तुम्हारा राम !

जितनी ही नफ़रत पालोगे, और बहेगा खून का दरिया
वो है सबका पालनहारा, किसका अल्लाह किसका राम !

जाने कितने सहमे हम सब, रोज़ उठाते इतनी आफ़त
नया बवाल क्यों बढ़ाते, जिसका अल्लाह जिसका राम !

कर गुनाह हरदम भटकते, वास्ते माफ़ी के दैरो-हरम
होती नहीं माफ़ी जितना जपो, मेरा अल्लाह मेरा राम !

फूलों की खुशबू में पाओ, या काँटों की चुभन में देखो
है एक वो मगर सर्वव्यापी, सबका अल्लाह सबका राम !

तुम भटको मंदिर-मस्ज़िद, मिलेगा न कोई तारणहार
'शब' से पूछो मन में बसा, उसका अल्लाह उसका राम !

- जेन्नी शबनम (नवंबर 26, 2009)

______________________________________________

mera allah mera ram

*******

aante sikudi bhookh se, maasoom jaanon ki badhti kataar
tum kahte ho, hum hain laachaar, deta allah deta ram.

duniya ek chhoti see, hain sabne kiye tukde kai hazaar
khuda ko bhi baanta, kisi ka allah kisi ka ram.

ho anuraagi ya chaahe bairaagi, guhaar lagaate darshan ki
man mein dhundho wahin baitha, tumhara allah tumhara ram.

jitni hin nafrat paaloge, aur bahega khoon ka dariya
wo hai sabka paalanhaara, kiska allah kiska ram.

jaane kitne sahme hum sab, roz uthaate itni aafat
nayaa bawaal kyun badhaate, jiska allah jiska ram.

kar gunaah hardam bhatakte, waaste maafi ke dairo-haram
hoti nahin maafi jitna japo, mera allah mera ram.

phoolon ki khushboo mein paao, ya kaanton ki chubhan mein dekho
hai ek wo magar sarwavyaapi, sabka allah sabka ram.

tum bhatko mandir-maszid, milega na koi taaranhaar
'shab' se puchho man mein basaa, uska allah uska ram.

- Jenny Shabnam (November 26, 2009)

_____________________________________________________________