Monday, November 30, 2009

103. रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल... / rumaani waadiyon mein safed baadal...

रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल...

*******

मन की कलियाँ कुछ कच्ची हुई
सपनों की गलियाँ कुछ लम्बी हुई,
एक फ़रिश्ता मुझे बादल तक लाया
पुष्पक-विमान से आसमान दिखाया,
जैसे देव-लोक का कोई देव
मेरे सपनों का वो मीत 

हाथ बढ़ाया थामने को
साथ तफ़रीह करने को,
जाने ये कैसा संकोच
बावरा मन हुआ मदहोश,
होठों पर तिरी मुस्कान
काँप उठे सभी जज़्बात 

मरमरी सफ़ेद नर्म मुलायम
चहुँ ओर फैले शबनमी एहसास,
परी-लोक सा अति मनभावन
स्वर्ग-लोक सा सुन्दर पावन,
क्या सच में है ये जन्नत
या बस मेरा एक ख़्वाब 

दिखा वहाँ न कोई फ़रिश्ता
न मदिरा की बहती धारा,
न दूध की नदी विहंगम
न अप्सराओं का नृत्य मोहक,
दिखा सफ़ेद बादलों का दृश्य मनोरम
और बस हम दोनों का प्रेम-आलिंगन 

मेरे सपनों का देव-लोक
आसमान का सफ़ेद बादल,
और हमारा सफ़र सुहाना
जैसे परी-लोक की एक कथा,
अधसोई रात का एक स्वपन
रूमानी वादियों में सफ़ेद बादल 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 27, 2009)

_________________________________________

rumaani waadiyon mein safed baadal...

*******

mann kee kaliyan kuchh kachchi hui
sapnon kee galiyan kuchh lambi hui,
ek farishtaa mujhe baadal tak laayaa
pushpak-vimaan se aasmaan dikhaya,
jaise dev-lok ka koi dev
mere sapnon ka wo meet.

haath badhaaya thaamne ko
saath tafreeh karne ko,
jaane ye kaisa sankoch
baawaraa mann hua madhosh,
hothon par tiree muskaan
kaanp uthe sabhi jazbaat.

marmaree safed narm mulaayam
chahun oar faile shabnami ehsaas,
paree-lok sa ati manbhaawan
swarg-lok sa sundar paawan,
kya sach mein hai ye jannat
ya bas mera ek khwaab.

dikha wahaan na koi farishta,
na madira kee bahti dhaaraa,
na doodh kee nadee vihangam,
na apsaraon ka nritya mohak,
dikha safed baadlon ka drishya manoram,
aur bas hum dono ka prem-aalingan.

mere sapnon ka dev-lok,
aasmaan ka safed baadal,
aur hamara safar suhaana,
jaise paree-lok kee ek kathaa,
adhsoi raat ka ek swapn,
roomaani waadiyon mein safed baadal.

- jenny shabnam (27. 11. 2009)

________________________________________

Wednesday, November 25, 2009

102. मुझे जीना नहीं आता / mujhe jeena nahin aataa

मुझे जीना नहीं आता

******* 
   
सच, जीना नहीं आता, मुझे बसना नहीं आता    
दुनिया के रिवाजों पे, मुझे चलना नहीं आता !

हँस नहीं पाती, ज़माने के दर्द पर अब भी          
सच है, बेरहमी से, मुझे हँसना नहीं आता !          

शोहरत की चाह, न ऐसी ख़्वाहिश ही है कोई
ज़िन्दगी करना बसर, मुझे इतना नहीं आता !  

छलक जाते हैं आँसू, किसी के बिछुड़ने पर
सच है, रोना आता, मुझे मरना नहीं आता !

यूँ हज़ारों रास्ते हैं, मंज़िल तक पहुँचने के
यक़ीनन कहीं भी, मुझे बढ़ना नहीं आता ।  

अपने दे जाए दगा, तो भी सह लूँ मगर
बेवफ़ाई दोस्तों से, मुझे करना नहीं आता 

क्या-क्या ज़ब्त करूँ अब, अपने सीने में    
सच है, हर ग़म, मुझे सहना नहीं आता ।     

क्यों नहीं देखती आईना, सब पूछते यहाँ
सच है, ख़ुद से इश्क, मुझे करना नहीं आता ।     

एक तस्वीर माँगी थी, तक़दीर नहीं 'शब'
या ख़ुदा ! तुमसे, मुझे कहना नहीं आता ! 

- जेन्नी शबनम (नवंबर 25, 2009)

_____________________________________

mujhe jeena nahin aataa

*******

sach, jeena nahin aataa, mujhe basnaa nahin aataa
duniya ke riwaazon pe, mujhe chalna nahin aataa.

hans nahin paati, zamaane ke dard par ab bhi
sach hai, berahmi se, mujhe hansnaa nahin aataa.

shohrat ki chaah, na aisi khwaahish hi hai koi
zindgi karnaa basar, mujhe itnaa nahin aataa.

chhalak jaate hain aansoo, kisi ke bichhudne par
sach hai, ronaa aataa, mujhe marnaa nahin aataa.

yun hazaaron raaste hain, manzil tak pahunchne ke
yakinan kaheen bhi, mujhe badhnaa nahin aataa.

apne de jaaye dagaa, to bhi sah loonn magar
bewafaai doston se, mujhe karna nahin aataa.

kya-kya zabt karoon ab, apne seene mein
sach hai, har gham, mujhe sahnaa nahin aataa.

kyun nahin dekhti aainaa, sab puchhte yahaan
sach hai, khud se ishq, mujhe karnaa nahin aataa.

ek tasweer maangi thee, takdir nahin 'shab'
yaa khudaa ! tumse, mujhe kahnaa nahin aataa.

- Jenny Shabnam (November 25, 2009)

________________________________________________

Monday, November 23, 2009

101. वदीयत दर्द का... / wadeeyat dard ka...

वदीयत दर्द का...

*******

रूह लिपटी रही जिस्म से ऐसे
दो अजनबी मिल रहे हों जैसे,
पता पूछा मेरे जीस्त से उसने
और जुदा हो गया सज़दा करके 

वदीयत दर्द का उसने जो दिया
ज़ालिम रात रोज़ तड़पाती है,
सोचा था कि ख़त लिखूँ उसको
उफ्फ़! पता भी तो न दिया उसने 

नादाँ दिल जुर्मे-वफ़ा का अंजाम देख
लरजते लम्स के कुछ लम्हे साथ मेरे,
सूफ़ियाना और फ़ल्सफ़ियाना लफ्ज़
काफ़ी नहीं कि ज़ेहन भूल जाए उसे 

_____________________

वदीयत - सौंपी हुई विरासत
जुर्मे-वफ़ा - प्रेम-अपराध
लरजना - कांपना
लम्स - स्पर्श
सूफ़ियाना - आध्यात्मिक
फ़ल्सफ़ियाना - दार्शनिक
____________________

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 22, 2009)

______________________________

wadeeyat dard ka...

*******

rooh lipti rahi jism se aise
do ajnabi mil rahe hon jaise,
pata puchha mere jeest se usney
aur judaa ho गया sazda karke !

wadeeyat dard ka usne jo diya
zaalim raat roz tadpaati hai,
socha tha ki khat likhun usko
uff... pata bhi to na diya usney !

naadaan dil zurme-wafaa ka anjaam dekh
larajte lams ke kuchh lamhe saath mere,
soofiyana aur phalsphiyana lafz
kaafi nahin ki zehan bhool jaye usey !

__________________________

wadeeyat - sanupi hui viraasat
zurme-wafaa - prem apraadh
larajna - kaanpnaa
lams - sparsh
soofiyana - aadhyaatmik
phalsiphiyana -daarshanik
___________________________

- jenny shabnam (november 22, 2009)

______________________________________

Saturday, November 21, 2009

100. मैं... / main...

मैं...

*******

मैं, मैं, सिर्फ मैं,
सर्वत्र मैं...!

एक रूह मैं, एक इंसान मैं, एक हैवान मैं,
एक ख्व़ाब मैं, एक जज़्बात मैं, एक ख्व़ाबगाह मैं,
अपना मकान मैं, अपना संसार मैं, अपना श्मशान भी मैं 

कैदी मैं, कैदखाना मैं, प्रहरी भी मैं,
वकील मैं, न्यायाधीश मैं, अदालत भी मैं,
जल्लाद मैं, फांसी का फंदा मैं, मौत की सज़ायाफ़्ता मुज़रिम भी मैं 

कफ़न मैं, कब्र मैं, मज़ार भी मैं,
चुनने वाले हाथ मैं, दफ़न होने वाला बदन भी मैं,
अपनी चिता पर रोने वाली मैं, अपनी मृत्यु का जश्न मनाने वाली भी मैं 

बंदगी में उठे हाथ मैं, सज़दे में झुका सिर भी मैं,
खिलते फूल मैं, चुभते काँटे भी मैं,
इन्द्रधनुषी रंग मैं, लहू की लाली भी मैं,
ओस की नमी मैं, दहकती चिंगारी भी मैं,
रात का अँधियारा मैं, दिन का उजाला भी मैं,
सुख की तृप्ति मैं, दुःख की असह्य व्यथा भी मैं,
वर्तमान मैं, भविष्य भी मैं,
धरा मैं, गगन भी मैं,
आशा मैं, निराशा भी मैं,
स्वर्ग मैं, नरक भी मैं,
सार मैं, असार भी मैं,
आदि मैं, अंत भी मैं,
जीवन मैं, मृत्यु भी मैं,
इस पार मैं, उस पार भी मैं,
प्रेम मैं, द्वेष भी मैं,
ईश की संतान मैं, ईश्वर भी मैं,
आत्मा मैं, परमात्मा भी मैं 

मैं, मैं, सिर्फ मैं,
सर्वत्र मैं...!

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 31, 1990)

________________________________

main...

*******

main, main, sirf main,
sarwatrra main...!

ek rooh main, ek insaan main, ek haiwaan main,
ek khwaab main, ek jazbaat main, ek khwaabgaah main,
apna makaan main, apna sansaar main, apna shmashaan bhi main.

kaidi main, kaidkhana main, prahari bhi main,
vakeel main, nyaayaadheesh main, adaalat bhi main,
jallad main, faansi ka fandaa main, maut ki sazaayaaftaa muzrim bhi main.

kafan main, kabrra main, mazaar bhi main,
chunne wale haath main, dafan hone wala badan bhi main,
apni chita par rone waali main, apni mrityu ka jashn manane wali bhi main.

bandagi mein uthey haath main, sazde mein jhuka sir bhi main,
khilte phool main, chubhte kaante bhi main,
indradhanushi rang main, lahoo ki laali bhi main,
oas ki nami main, dahakti chingaari bhi main,
raat ka andhiyara main, din ka ujaala bhi main,
sukh ki tripti main, dukh ki ashaya vyathaa bhi main,
wartmaan main, bhawisya bhi main,
dharaa main, gagan bhi main,
aasha main, niraashaa bhi main,
swarg main, narak bhi main,
saar main, asaar bhi main,
aadi main, ant bhi main,
jiwan main, mrityu bhi main,
is paar main, us paar bhi main,
prem main, dwesh bhi main,
eesh kee santaan main, ishwar bhi main,
aatmaa main, param-aatmaa bhi main.

main, main, sirf main,
sarwatrra main...!

- jenny shabnam (december 31, 1990)

_________________________________________________

Thursday, November 19, 2009

99. वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों... / waqt ko itni besabri kyon...

वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों...
(अपने जन्मदिन पर)

*******

कुछ लम्हे चुरा कर दे दो न
ठहर ज़रा हम भी जी लें न,
जब देखो छीन जाता हमसे
वक़्त की इतनी सख्ती क्यों?

अब तो सहर की आस नहीं
अशक्त तन-मन में जान नहीं,
कब किस ओर निकल जाए
वक़्त की इतनी आवारगी क्यों?

चाँदनी ने रंग बिखेरे गेसुओं पर
इक लकीर सी उभरी माथे पर,
दिन गुजरा भी नहीं रात हुई
वक़्त को इतनी जल्दी क्यों?

'शब' को एक सौगात दे दो
मोहलत की एक रात दे दो,
वक़्त को ज़रा समझाओ न
वक़्त को इतनी बेसब्री क्यों?

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 16, 2009)

___________________________________

waqt ko itni besabri kyon...
(apne janmdin par)

*******

kuchh lamhe churaa kar de do na
thahar zaraa hum bhi ji lein na,
jab dekho chheen jaata humse
waqt ki itni sakhti kyon ?

ab to sahar ki aas nahin
ashakt tan-man mein jaan nahin,
kab kis ore nikal jaaye
waqt ki itni aawargi kyon ?

chaandni ne rang bikhere gesuon par
ik lakeer see ubhari maathey par,
din gujraa bhi nahin raat hui
waqt ko itni jaldi kyon ?

'shab' ko ek saugaat de do
mohlat ki ek raat de do,
waqt ko zara samjhaao na
waqt ko itni besabri kyon ?

- jenny shabnam (november 16, 2009)

***************************************************************

Sunday, November 15, 2009

98. वो अमरुद का पेड़... / Wo Amrud (Guava) ka Ped...

वो अमरुद का पेड़...

*******

घर के सामने अमरुद का पेड़
आज भी वहीं पर स्थित है,
बिछुड़े हुए अपनों की आस लगाए
घर को सूनी आँखों से निहारता,
वक़्त के कुठाराघात से छलनी
नितांत निःशब्द गाँव का मूक साक्षी,
विषमताओं में ख़ुद को सहेजता
बीते लम्हों की याद में अकेला जीता 

उस पेड़ की घनी मज़बूत डालियों पर चढ़कर
कच्चे अमरुद खाती थी, एक नन्ही लड़की,
ढूँढ़ रही हूँ कब से उसे
न जाने कहाँ है अब वो?
पूछती हूँ उस वृद्ध पेड़ से
उसका पता
या उसकी कोई निशानी
जो संजोया हो उसने,
आज पेड़ भी असमर्थ है
उस लड़की की पहचान बताने में,
नियति के खेल का दर्शक यह पेड़
झिझकता है शायद बताने में
कि वो कौन थी
या सभी अपनों की तरह
वो भी भूल गया है उसे 

वो लड़की खो गई है कहीं
बचपन भी गुम हो गया था कभी,
उम्र से बहुत पहले वक़्त ने उसे
बड़ा बना दिया था कभी,
कहीं कोई निशानी नहीं उसकी
अब कहाँ ढूँढूँ उस नन्ही लड़की को?

सामने खड़ी है आज वो लड़की
कोई पहचानता नहीं उसे,
वक़्त के साथ बदलती रफ़्तार ने
सदा के लिए खो दिया है उसका वज़ूद,
सभी का इंकार तो सहज है
पर उस पेड़ ने भी न पहचाना
जिसकी डालियों पर...

वो प्यारा अमरुद का पेड़
आज भी राह जोहता है
उस नन्हीं लड़की को खोजता है
जिसका सब खो चूका है
नाम, पहचान, निशान सब मिट चूका है 

उस पेड़ को कैसे याद दिलाए कि
वो लड़की गुम है ज़माने में
पर विस्मृत नहीं कर सकी
अब तक उस अमरुद के पेड़ को,
वो नन्ही लड़की वही है
जो उसकी डालियों पर...!

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 14, 2009)

____________________________________

Wo Amrud (Guava) ka Ped...

*******

ghar ke saamne amrud ka ped
aaj bhi wahin par sthit hai,
bichhude hue apnon ki aas lagaaye
ghar ko sooni aankhon se nihaarta,
waqt ke kuthaaraaghaat se chhalni
nitaant nihshabd gaanv ka mook saakshi,
vishamtaaon mein khud ko sahejta
beete lamhon kee yaad mein akela jita.

us ped ki ghani mazboot daaliyon par chadhkar
kachche amrood khaati thee, ek nanhi ladki,
dhundh rahee hun kab se usey
na jaane kahan hai ab wo?
puchhti hun us vriddh ped se
uska pata
ya koi uski nishaani
jo sanjoya ho usne,
aaj ped bhi asamarth hai
us ladki ki pahchaan bataane mein,
niyati ke khel ka darshak yah ped
jhijhakta hai shayad bataane mein
ki wo kaun thee
ya sabhi apno ki tarah
wo bhi bhool gaya hai usey.

wo ladki kho gai hai kahin
bachpan bhi gum ho gayaa thaa kabhi,
umra se bahut pahle waqt ne usey
bada bana diya tha kabhi,
kahin koi nishaani nahin uski
ab kahan dhoondhoon us nanhi ladki ko?

saamne khadi hai aaj wo ladki
koi pahchaanta nahin usey,
waqt ke saath badalti raftaar ne
sadaa keliye kho diya hai uska wazood,
sabhi ka inkaar to sahaj hai
par us ped ne bhi na pahchaana
jiski daaliyon par...

wo pyara amrood ka ped
aaj bhi raah johta hai
us nanhi ladki ko khojta hai
jiska sab kho chuka hai
naam, pahchaan, nishaan sab mit chuka hai.

us ped ko kaise yaad dilaaye ki
wo ladki gum hai zamaane mein
par vismrit nahin kar saki
ab tak us amrud ke ped ko,
wo nanhi ladki wahi hai
jo uski daaliyon par...!

- Jenny Shabnam (November 14, 2009)

___________________________________________

Thursday, November 12, 2009

97. इंसानियत मरती है / Insaaniyat martee hai

इंसानियत मरती है

*******

गुनहगारों को आजकल राहत मिलती है
बेगुनाही सज़ा और ज़िल्लत से घिरती है 

कैसे हो फ़ैसला किसी की मासूमियत का
आजकल मासूमियत सरे-आम बिकती है 

इंसानी मनसूबे की परख मुमकिन नहीं
हर चेहरे पे हज़ार पर्द-पोशी दिखती है 

दुनिया के दश्त में हर शख्स है भटकता
सबकी तकदीर में ज़मीन कहाँ टिकती है 

मतलब-परस्ती भर है सियासी बाज़ीगरी
टुकड़ों में बँटती मादरे-वतन सिसकती है 

अजब इत्तेफ़ाक एक राष्ट्र में महाराष्ट्र बसा
तंग दिल इतना जहाँ राष्ट्र-भाषा पिटती है 

दहशतगर्दों ने ख़ुदा को न बख्शा 'शब'
बज़्मे-ऐश देखो जब इंसानियत मिटती है 

____________________

पर्द-पोशी - दोष को छुपाना
दश्त - जंगल
बज़्मे-ऐश - ख़ुशी का जलसा
____________________

-जेन्नी शबनम (अगस्त 15, 2009)

_________________________________________

Insaaniyat martee hai...

*******

gunahgaaron ko aajkal raahat miltee hai
begunaahi saza aur zillat se ghirtee hai.

kaise ho faisla kisi ki maasoomiyat ka
aajkal maasoomiyat sare-aam biktee hai.

insaani mansoobe kee parakh mumkin nahin
har chehre pe hazaar pard-poshi dikhtee hai.

duniya ke dasht mein har shakhs hai bhataktaa
sab kee takdeer mein zameen kahaan tikatee hai.

matlab-parasti bhar hai siyaasi baazigari
tukadon mein bantatee maadare-watan sisakatee hai.

ajab ittefaaq ek raashtra mein maharashtra basaa
tang dil itnaa jahaan rashtra-bhasha pita.tee hai.

dahshatgardon nein khuda ko na bakhsha 'shab'
bazme-aish dekho jab insaaniyat mitatee hai.

__________________________

pard-poshi - dosh ko chhupana
dasht - jangal
bazme-aish - khushi ka jalsaa

___________________________

- Jenny Shabnam (August 15, 2009)

********************************************************

Wednesday, November 11, 2009

96. नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं / naam tumhara kabhi liya nahin

नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं

*******

ऊँगली के पोरों से मन में, नाम कभी लिखा नहीं
शून्य में ठहर न जाए, नाम तुम्हारा कभी लिया नहीं 

आस्था का दीप न जलता, न मन कोई राग बुनता
मन की पीर प्रतिमा क्या जाने, उसने कभी जिया नहीं 

कविताओं के छंद में, क्षण-क्षण प्रतीक्षित मन में
भ्रम देता स्वप्न सदा, पर जाने क्यों कभी टिका नहीं 

व्यथा की घोर घटा, उस पर कर्त्तव्य का ऋण बड़ा
विह्वल मन को ठौर तनिक, तुमने भी कभी दिया नहीं 

बूँद-बूँद स्वयं को पीकर, 'शब' की होती रात नम
राह निहारती नमी पी ले, ऐसा कोई कभी मिला नहीं 

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 9, 2009)

________________________________________________

naam tumhara kabhi liya nahin

*******

oongli ke poron se, man mein naam kabhi likha nahin
shoonya mein thahar na jaaye, naam tumhara kabhi liya nahin.

aastha kaa deep na jalta, na man koi raag bunta
man kee peer pratima kya jaane, usne kabhi jiya nahin.

kavitaaon ke chhand mein, kshan-kshan prateekshit man mein
bhram deta swapn sada, par jaane kyun kabhi tika nahin.

vyatha kee ghor ghata, us par kartavya ka rin bada
vihwal man ko thaur tanik, tumne bhi kabhi diya nahin.

boond boond swayam ko pikar, 'shab' kee hoti raat nam
raah nihaarti namee pee le, aisa koi kabhi mila nahin.

- Jenny Shabnam (November 9, 2009)

___________________________________________________

95. वर्जित फल... / varjit phal...

वर्जित फल...

*******

ख़ुदा का वर्जित फल इश्क था
जो कभी दो प्राणी ने
उत्सुकता में खाया था,
वो अनजानी गलती उनकी
इश्क की बुनियाद थी
जिससे मानव का पेड़ पनपता गया 

बीज तो इश्क का था
पर पेड़ जाने कैसे
इश्क से ही महरूम हो गया,
एक ही बीज से लाखों नस्ल उगे
हर नस्ल को पैदाइश याद रहा
बस मोहब्बत करना भूल गया 

इश्क के पेड़ में
अमन-चैन का फल नहीं पनपता,
इश्क की डाली में
मोहब्बत का फूल नहीं खिलता 

या खुदा!
ये कैसा वर्जित फल था तुम्हारे बाग़ में
जिसका रंग इश्क का था
पर उसकी तासीर रंजिश में डूबे लहू की थी 

अगर ऐसा फल था तो तुमने लगाया क्यों?
या तो दो जिज्ञासु मानव न उपजाते
या ऐसे फल का बाग़ न लगाते 

- जेन्नी शबनम (अप्रैल 2009)

____________________________________

varjit phal...

*******

khudaa ka varjit phal ishq thaa
jo kabhi do praani ne
utsuktaa mein khaayaa thaa,
wo anjaani galti unki
ishq kee buniyaad thee
jisase maanaw ka ped panaptaa gayaa.

beej to ishq ka thaa
par ped jaane kaise
ishq se hin mahroom ho gaya,
ek hin beej se laakhon nasl ugey
har nasl ko paidaaish yaad raha
bas mohabbat karna bhool gaya.

ishq ke ped mein
aman-chain ka phal nahin panaptaa,
ishq kee daali mein
mohabbat ka phool nahin khiltaa.

yaa khudaa!
ye kaisa varjit phal thaa tumhaare baag mein
jiskaa rang ishq ka thaa
par uski taaseer ranjish mein doobe lahoo kee thee.

agar aisa phal thaa to tumne lagaya kyon?
yaa to do jigyaasu maanaw na upjaate
yaa aise phal ka baag na lagaate.

- Jenny Shabnam (April 2009)

________________________________________________

Sunday, November 8, 2009

94. तुम कहाँ गए / tum kahaan gaye

तुम कहाँ गए

*******

एक साँझ घिर आयी है मन पर
मेरी सुबह लेकर तुम कहाँ गए !

एक फूल खिला एक दीप जला
सब बुझा कर तुम कहाँ गए !

बीता रात का पहर भोर न हुई
सूरज छुपा कर तुम कहाँ गए !

चुभती है अब अपनी ही परछाईं
रौशनी दिखा कर तुम कहाँ गए !

तुम्हारी ज़िद न छूटेगा दामन
तन्हा छोड़ कर तुम कहाँ गए !

वक़्त-ए-रुखसत आकर मिल लो
सफ़र अधूरा कर तुम कहाँ गए !

'शब' की बस एक रात अपनी
वो रात लेकर तुम कहाँ गए !

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 7, 2009)

______________________________

tum kahaan gaye

*******

ek saanjh ghir aayee hai mann par
meri subah lekar tum kahaan gaye !

ek phool khilaa ek deep jalaa
sab bujhaa kar tum kahaan gaye !

beetaa raat ka pahar bhor na huee
sooraj chhupaa kar tum kahaan gaye !

chubhtee hai ab apnee hin parchhayeen
raushanee dikhaa kar tum kahaan gaye !

tumhaari zidd na chhutegaa daaman
tanhaa chhod kar tum kahaan gaye !

waqt-ae-rukhsat aakar mil lo
safar adhuraa kar tum kahaan gaye !

'shab' kee bas ek raat apnee
wo raat lekar tum kahaan gaye !

- jenny shabnam (november 7, 2009)

_____________________________________