Wednesday, May 5, 2010

140. मेरी यायावरी क्यों... बताओ न !... / meri yaayaavari kyon... bataao na !...

मेरी यायावरी क्यों... बताओ न !...

*******

तुम्हारी गंध की तलाश में भटकती रही
रेत के समंदर में पहरों तलाशती रही,
कभी आसमान तक गई
कभी धरती से पूछी
कभी चाँद तारों के आगे रोई
कभी सूरज के आगे गिड़गिड़ाई
कभी हवा से दुखड़ा सुनाई
कभी बरखा से पूछी,
बताओ न तुम कहाँ हो ?

युगों से है मेरी ये यायावरी
अज़ब अबूझ पहेली ज़िन्दगी,
जाने कहाँ-कहाँ मैं बौराई फिरती
हो मुझमें समाए ज्यों गंध कस्तूरी,
जाने कैसी है ये परिणति
इस जीवन की भी है यही नियति !

मेरे ही हिस्से में
आख़िर क्यों ?
मेरी यायावरी क्यों ?
बताओ न !

- जेन्नी शबनम (5. 5. 2010)

_________________________________

meri yaayaavari kyon... bataao na !...

*******

tumhaari gandh ki talaash mein bhatakti rahi
ret ke samandar mein pahron talaashti rahi,
kabhi aasamaan tak gai
kabhi dharti se puchhi
kabhi chaand taaron ke aagey roi
kabhi sooraj ke aagey gidgidaai
kabhi hawa se dukhda sunai
kabhi barkha se puchhi,
bataao na tum kahaan ho?

yugon se hai meri ye yayavari
ajab aboojh paheli zindagi,
jaane kahaan-kahaan main bauraai firti
ho mujhmein samaaye jyon gandh kastoori,
jaane kaisi hai ye parinati
is jivan ki bhi hai yahi niyati !

mere hi hisse mein
akhir kyon ?
mere yayavari kyo ?
bataao na...!

- Jenny Shabnam (5. 5. 2010)

________________________________________