Tuesday, December 29, 2009

110. तड़पाते क्यों हो / tadpaate kyon ho

तड़पाते क्यों हो

*******

बेइंतेहा इश्क मुझसे जतलाते क्यों हो
मेरी आशिक़ी, गैरों को बतलाते क्यों हो ?

अनसुलझे सवालों से घिरी है ज़िन्दगी
और सवालों से, मुझे उलझाते क्यों हो ?

बेहिसाब कुछ माँगा ही नहीं कभी मैंने
चाहत ज़रा सी देकर, तड़पाते क्यों हो ?

तुम भी चाहो मुझे, ये कब कहा तुमसे
यूँ बेमन इश्क, मुझसे फरमाते क्यों हो ?

तुम मुझमें बसे, चर्चा फरिश्तों ने किया
इश्क नेमत है, तुम ये झुठलाते क्यों हो ?

इबादत होता है, कोई तज़ुर्बा नहीं इश्क
मिलता बामुश्किल, दिल बहलाते क्यों हो ?

तुम्हारी सलामती की दुआ करती 'शब'
इश्क का सलीका, मुझे समझाते क्यों हो ?

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 28, 2009)
_________________________________

tadpaate kyon ho

*******

beintahaan ishq mujhse jatlaate kyon ho
meri aashiqi, gairon ko batlaate kyon ho ?

ansuljhe sawaalon se ghiri hai zindagi
aur sawaalon se, mujhe uljhaate kyon ho ?

behisaab kuchh maangaa hi nahin kabhi maine
chaahat zara see dekar, tadpaate kyon ho ?

tum bhi chaaho mujhe, ye kab kaha tumse
yun beman ishq, mujhse farmaate kyon ho ?

tum mujhmein base, charchaa farishton ne kiya
ishq nemat hai, tum ye jhuthlaate kyon  ho ?

ibaadat hota hai koi tazurbaa nahin ishq
milta baamushkil, dil bahlaate kyon ho ?

tumhaari salaamati ki dua karti 'shab'
ishq ka saleeka, mujhe samjhaate kyon ho ?

- Jenny Shabnam (December 28, 2009)

__________________________________________