Monday, November 23, 2009

101. वदीयत दर्द का... / wadeeyat dard ka...

वदीयत दर्द का...

*******

रूह लिपटी रही जिस्म से ऐसे
दो अजनबी मिल रहे हों जैसे,
पता पूछा मेरे जीस्त से उसने
और जुदा हो गया सज़दा करके 

वदीयत दर्द का उसने जो दिया
ज़ालिम रात रोज़ तड़पाती है,
सोचा था कि ख़त लिखूँ उसको
उफ्फ़! पता भी तो न दिया उसने 

नादाँ दिल जुर्मे-वफ़ा का अंजाम देख
लरजते लम्स के कुछ लम्हे साथ मेरे,
सूफ़ियाना और फ़ल्सफ़ियाना लफ्ज़
काफ़ी नहीं कि ज़ेहन भूल जाए उसे 

_____________________

वदीयत - सौंपी हुई विरासत
जुर्मे-वफ़ा - प्रेम-अपराध
लरजना - कांपना
लम्स - स्पर्श
सूफ़ियाना - आध्यात्मिक
फ़ल्सफ़ियाना - दार्शनिक
____________________

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 22, 2009)

______________________________

wadeeyat dard ka...

*******

rooh lipti rahi jism se aise
do ajnabi mil rahe hon jaise,
pata puchha mere jeest se usney
aur judaa ho गया sazda karke !

wadeeyat dard ka usne jo diya
zaalim raat roz tadpaati hai,
socha tha ki khat likhun usko
uff... pata bhi to na diya usney !

naadaan dil zurme-wafaa ka anjaam dekh
larajte lams ke kuchh lamhe saath mere,
soofiyana aur phalsphiyana lafz
kaafi nahin ki zehan bhool jaye usey !

__________________________

wadeeyat - sanupi hui viraasat
zurme-wafaa - prem apraadh
larajna - kaanpnaa
lams - sparsh
soofiyana - aadhyaatmik
phalsiphiyana -daarshanik
___________________________

- jenny shabnam (november 22, 2009)

______________________________________