Sunday, July 5, 2009

69. 'शब' की मुराद

'शब' की मुराद
[ 'ज़ख्म' फिल्म से प्रेरित नज़्म ]

*******

'शब' जब 'शव' बन जाए, उसको कुछ वक़्त रहने देना
बेदस्तूर सही, सहर होने तक ठहरने देना !

उम्र गुज़ारी है 'शब' ने अँधेरों में
रौशनी की एक नज़र पड़ने देना !

डरती है बहुत 'शब' आग में जलने से
दुनियावालों, उसे दफ़न करने देना !

मज़हब का सवाल जो उठने लगे तो
सबको वसीयत 'शब' की पढ़ने देना !

ढ़क देना माँग की सिंदूरी लाली को
वजह-ए-वहशत 'शब' को न बनने देना !

जगह नहीं दे मज़हबी जब दफ़नाने को
घर में अपने, 'शब' की कब्र बनने देना !

तमाम ज़िन्दगी बसर हुई तन्हा 'शब' की
जश्न भारी औ मजमा भी लगने देना !

अश्क नहीं फूलों से सजाना 'शब' को
'शब' के मज़ार को कभी न ढ़हने देना !

'शब' की मुराद, पूरी करना मेरे हमदम
'शब' के लिए, कोई मर्सिया न पढ़ने देना !

______________________________
शब - रात (एक काल्पनिक नाम)
शव - लाश / मुर्दा
वजह-ए-वहशत - भय / आतंक का कारण
मर्सिया - मृत्यु पर शोकगान
_______________________________

- जेन्नी शबनम (नवम्बर, 1998)

___________________________________________