Tuesday, August 11, 2009

78. यही अर्ज़ होता है

यही अर्ज़ होता है

*******

मजरूह सही, ये दर्द-ए-इश्क का तर्ज़ होता है
तजवीज़ न कीजिए, इंसान बड़ा ख़ुदगर्ज़ होता है !

आप कहते हैं कि हर मर्ज़ की दवा, है मुमकिन
इश्क में मिट जाने का जुनून, भी मर्ज़ होता है !

दोस्त न सही, दुश्मन ही समझ लीजिए हमको
दुश्मनी निभाना भी, दुनिया का एक फर्ज़ होता है !

आप मनाएँ हम रूठें, बड़ा भला लगता हमको
आप जो ख़फा हो जाएँ तो, बड़ा हर्ज़ होता है !

खुशियाँ मिलती हैं ज़िन्दगी सी, किश्तों में मगर
हँस कर उधार साँसे लेना भी, एक कर्ज़ होता है !

वो करते हैं हर लम्हा, हज़ार गुनाह मगर
मेरी एक गुस्ताखी का, हिसाब भी दर्ज़ होता है !

इश्क से महरूम कर, दर्द बेहिसाब न देना 'शब' को
हर दुश्वारी में साथ दे ख़ुदा, बस यही अर्ज़ होता है !
___________________

मजरूह _ घायल / ज़ख्मी
___________________

- जेन्नी शबनम (अगस्त 11, 2009)

________________________________________________