Sunday, November 15, 2009

98. वो अमरुद का पेड़... / Wo Amrud (Guava) ka Ped...

वो अमरुद का पेड़...

*******

घर के सामने अमरुद का पेड़
आज भी वहीं पर स्थित है,
बिछुड़े हुए अपनों की आस लगाए
घर को सूनी आँखों से निहारता,
वक़्त के कुठाराघात से छलनी
नितांत निःशब्द गाँव का मूक साक्षी,
विषमताओं में ख़ुद को सहेजता
बीते लम्हों की याद में अकेला जीता 

उस पेड़ की घनी मज़बूत डालियों पर चढ़कर
कच्चे अमरुद खाती थी, एक नन्ही लड़की,
ढूँढ़ रही हूँ कब से उसे
न जाने कहाँ है अब वो?
पूछती हूँ उस वृद्ध पेड़ से
उसका पता
या उसकी कोई निशानी
जो संजोया हो उसने,
आज पेड़ भी असमर्थ है
उस लड़की की पहचान बताने में,
नियति के खेल का दर्शक यह पेड़
झिझकता है शायद बताने में
कि वो कौन थी
या सभी अपनों की तरह
वो भी भूल गया है उसे 

वो लड़की खो गई है कहीं
बचपन भी गुम हो गया था कभी,
उम्र से बहुत पहले वक़्त ने उसे
बड़ा बना दिया था कभी,
कहीं कोई निशानी नहीं उसकी
अब कहाँ ढूँढूँ उस नन्ही लड़की को?

सामने खड़ी है आज वो लड़की
कोई पहचानता नहीं उसे,
वक़्त के साथ बदलती रफ़्तार ने
सदा के लिए खो दिया है उसका वज़ूद,
सभी का इंकार तो सहज है
पर उस पेड़ ने भी न पहचाना
जिसकी डालियों पर...

वो प्यारा अमरुद का पेड़
आज भी राह जोहता है
उस नन्हीं लड़की को खोजता है
जिसका सब खो चूका है
नाम, पहचान, निशान सब मिट चूका है 

उस पेड़ को कैसे याद दिलाए कि
वो लड़की गुम है ज़माने में
पर विस्मृत नहीं कर सकी
अब तक उस अमरुद के पेड़ को,
वो नन्ही लड़की वही है
जो उसकी डालियों पर...!

- जेन्नी शबनम (नवम्बर 14, 2009)

____________________________________

Wo Amrud (Guava) ka Ped...

*******

ghar ke saamne amrud ka ped
aaj bhi wahin par sthit hai,
bichhude hue apnon ki aas lagaaye
ghar ko sooni aankhon se nihaarta,
waqt ke kuthaaraaghaat se chhalni
nitaant nihshabd gaanv ka mook saakshi,
vishamtaaon mein khud ko sahejta
beete lamhon kee yaad mein akela jita.

us ped ki ghani mazboot daaliyon par chadhkar
kachche amrood khaati thee, ek nanhi ladki,
dhundh rahee hun kab se usey
na jaane kahan hai ab wo?
puchhti hun us vriddh ped se
uska pata
ya koi uski nishaani
jo sanjoya ho usne,
aaj ped bhi asamarth hai
us ladki ki pahchaan bataane mein,
niyati ke khel ka darshak yah ped
jhijhakta hai shayad bataane mein
ki wo kaun thee
ya sabhi apno ki tarah
wo bhi bhool gaya hai usey.

wo ladki kho gai hai kahin
bachpan bhi gum ho gayaa thaa kabhi,
umra se bahut pahle waqt ne usey
bada bana diya tha kabhi,
kahin koi nishaani nahin uski
ab kahan dhoondhoon us nanhi ladki ko?

saamne khadi hai aaj wo ladki
koi pahchaanta nahin usey,
waqt ke saath badalti raftaar ne
sadaa keliye kho diya hai uska wazood,
sabhi ka inkaar to sahaj hai
par us ped ne bhi na pahchaana
jiski daaliyon par...

wo pyara amrood ka ped
aaj bhi raah johta hai
us nanhi ladki ko khojta hai
jiska sab kho chuka hai
naam, pahchaan, nishaan sab mit chuka hai.

us ped ko kaise yaad dilaaye ki
wo ladki gum hai zamaane mein
par vismrit nahin kar saki
ab tak us amrud ke ped ko,
wo nanhi ladki wahi hai
jo uski daaliyon par...!

- Jenny Shabnam (November 14, 2009)

___________________________________________