Wednesday, September 1, 2010

168. क्या मैं आज़ाद हूँ ... / kya main aazaad hun...

क्या मैं आज़ाद हूँ

*******

"क्या मैं आज़ाद हूँ ?"
ये प्रश्न अनुत्तरित है
और एहसास
अंतस की अव्यक्त पीड़ा 
महज़ सीमित है
संविधान के पन्नों में सिमटी
आज़ादी और स्वतंत्रता 
हम जीवित इंसानों की हर आज़ादी पर
है अंकुश का आघात बड़ा 

सबने कहा, सबसे सुना
कहते ही रहे हैं हम सदा
मैं आज़ाद हूँ, वो आज़ाद है
हम आज़ाद हैं 
पर दिखी नहीं कभी
इंसानों की आज़ादी
उनकी चेतना और मन की आज़ादी 
हर इंसान को
अपने धर्म, संस्कार, परंपरा और रिश्तों में
घुटता पाया कैदी 

कौमों और सियासत की जंग में
हर आम इंसान है जकड़ा 
जज़्बात और धर्म पर पहरा
मन की अभिव्यक्ति पर पहरा
तसलीमा और मक़बूल जैसों पर
देशद्रोही और फ़तवा का कहर है बरपा 
दुश्मनों की क्या बात करें
दोस्तों को ज़िबह करते देखना
भी है सदमा 

धर्म और रिवाजों पर बलि चढ़ते
हम मूक संस्कारों को हैं देखते,
अस्मत और किस्मत को लूटते-बचते
हर लम्हा हम कितना हैं तड़पते,
रात को चैन की नींद सो सकें
हम अपने घरों में खौफ़ से हैं गुजरते,
देश के प्रहरी मुल्कों से ज्यादा
अपने घर को आतंक से बचाने में
रात जागते, जान हैं गंवाते 

एक रोटी के वास्ते नीलाम होती कन्या
और बंधक बनती है संतान,
एक रोटी के वास्ते वतन त्यागता
धर्म बदलता और बदलता अपना ईमान है इंसान,
एक रोटी के वास्ते कचरों से जानवरों संग
जूठन बटोरता भूखा लाचार है इंसान,
एक रोटी के वास्ते अपनों के खून का
प्यासा, बन जाता है इंसान 

न ये पूछना है, न कहना है -
"क्या मैं आज़ाद हूँ"
कुबूल नहीं हमें
ये आज़ादी,
कुछ कर गुजरना है
कि मान सकें हम
''मैं आज़ाद हूँ !''

- जेन्नी शबनम (5. 10. 2008)

________________________________

kya main aazaad hun...

*******

"Kya main aazaad hun ?"
Ye prashna anuttarit hai
aur ehsaas
antas ki avyakt peeda.
Mahaz seemit hai
samvidhaan ke pannon mein simtee
aazaadi aur swatantrata.
Hum jiwit insaano ki har aazaadi par,
hai ankush ka aaghaat bada.

Sabne kaha, sabse suna
kahte hin rahe hain hum sada
Mai aazaad hun, wo aazaad hai,
hum aazaad hain.
Par dikhi nahi kabhi
insaano ki aazaadi
unki chetna aur mann ki aazaadi.
Har insaan ko
apne dharm, sanskar, parampara aur rishton mein
ghutata paya kaidi.

Kaumo aur siyasat ki jung mein
har aam insaan hai jakda.
Jazbaat aur dharm par pahra
mann ki abhivyakti par pahra.
Taslima aur maqbool jaison par
deshdrohi aur fatwa ka kahar hai barpa.
Dushmano ki kya baat karen
doston ko jibah karte dekhna
bhi hai sadma.

Dharm aur riwazon per bali chadhte
hum mook sanskaron ko hain dekhte,
Asmat aur kismat ko lootate-bachate
har lamha hum kitna hain tadapte,
Raat ko chain ki neend so saken
hum apne gharon mein khauff se hain gujarte,
Desh ke prahari mulkon se jyada
apne ghar ko aatank se bachane mein
raat jagte, jaan hain ganwaate.

Ek roti ke waste neelaam hoti kanya
aur bandhak banti hai santaan,
Ek roti ke waste watan tyagta
dharm badalta aur badalta apna imaan hai insaan,
Ek roti ke waste kachro se janwaro sang
juthan batorta bhukha laachaar hai insaan,
Ek roti ke waste apno ke khoon ka
pyasa, ban jata hai insaan.

Na ye puchhna hai, na kahna hai -
"kya main aazaad hun ?"
Kubul nahi hamein
ye aazaadi,
kuchh kar gujarna hai
ki maan saken hum
"main aazaad hun !"

- jenny shabnam (5. 10. 2008)

__________________________________________________