Thursday, July 22, 2010

157. किस किस के दर्द को चखती 'शब' / kis kis ke dard ko chakhti 'shab'

किस-किस के दर्द को चखती 'शब'

*******

वाह वाही से अब दम घुटता है
सच सुनने को मन तरसता है !

छवि बनाऊँ जो पसंद ज़माने को
मुखौटे ओढ़-ओढ़ मन तड़पता है !

उनकी सरपरस्ती मुझे भाती नहीं
अपने पागलपन से दिल डरता है !

आसमान तो सबको मिला भरपूर
पर आसरा सबको नहीं मिलता है !

अपने आँसुओं से प्यास बुझती नहीं
मेरी अँजुरी में जल नहीं ठहरता है !

सब पूछते मैं इतनी रंज क्यों रहती हूँ
भूखे बच्चों को देख सब्र नहीं रहता है !

किस-किस के दर्द को चखती 'शब'
ज़माने को कुछ भी कब दिखता है !

- जेन्नी शनम (21. 07. 2010)

____________________________________

kis-kis ke dard ko chakhti 'shab'...

*******

waah waahi se ab dam ghutata hai
sach sunane ko man tarasta hai.

chhawi banaaun jo pasand zamaane ko
mukhoute odh-odh man tadapta hai.

unki sarparasti mujhe bhaati nahin
apne pagalpan se dil darta hai.

aasmaan to sabko mila bharpur
par aasra sabko nahin milta hai.

apne aansuon se pyaas bujhti nahin
meri anjuri mein jal nahin thaharta hai.

sab puchhte main itni ranj kyon rahti hun
bhukhe bachchon ko dekh sabrr nahin rahta hai.

kis-kis ke dard ko chakhti 'shab'
zamaane ko kuchh bhi kab dikhta hai.

- Jenny Shabnam (21. 7. 2010)

__________________________________________________