Saturday, July 1, 2017

550. ज़िद (क्षणिका)

ज़िद...  

*******  

एक मासूम सी ज़िद है -  
सूरज तुम छुप जाओ  
चाँद तुम जागते रहना  
मेरे सपनों को आज  
ज़मीं पर है उतरना!  

- जेन्नी शबनम (1. 7. 2017)

_________________________