Friday, May 20, 2011

अधरों की बातें...

अधरों की बातें...

*******

तुम्हारे अधरों की बातें
तुम क्या जानो
मेरे अधरों को बहुत भाते हैं,
न समझे तुम मन की बातें
कैसे कहें तुमको
तुम्हें देख हम खिल जाते हैं,
तुम भी देख लो मेरे सनम
प्रीत की रीत
यूँ हीं नहीं निभाते हैं,
शाख पे बैठी कोई चिरैया
गीत प्यार का जब गाती
सुन गीत मधुर
साथी उसके उड़ आते हैं,
ऐसे तुम भी आ जाओ
मेरे अधरों पे गीत रच जाओ
अब तुम बिन हम रह नहीं पाते हैं,
जाने कब आयेंगे वो दिन
जादू सी रातें बीते हुए दिन
वो दिन बड़ा सताते हैं
हर पल तुमको बुलाते हैं
अब हम रह नहीं पाते हैं!

__ जेन्नी शबनम __ 18. 5. 2011

___________________________________________