सोमवार, 29 अगस्त 2011

277. शेष न हो...

शेष न हो...

*******

सवाल भी ख़त्म और जवाब भी
शायद ऐसे ही ख़त्म होते हैं रिश्ते,
जब सामने कोई हो
और कहने को कुछ भी शेष न हो !

- जेन्नी शबनम (27. 8. 2011)

__________________________________