Thursday, February 18, 2010

123. लोग इश्क करते नहीं हैं / Log ishq karte nahin hain

लोग इश्क करते नहीं हैं

*******

अँधियारे से कैसे लड़ें, चिराग जलते नहीं हैं
होती जहाँ रौशनी, वो दरवाज़े खुलते नहीं हैं । 

अपनी बदहाली का, किससे करें हम शिकवा
हमदर्द सामने मगर, कदम मेरे बढ़ते नहीं हैं । 

कल कह दिया उसने, कि अब न आना तुम
मुड़ तो गये मगर, बेदर्द पहर कटते नहीं हैं । 

तुम्हारी बेरुखी से टूट, दिल ने ये तय किया
न देखेंगे ऐसे ख़्वाब, जो हमसे पलते नहीं हैं । 

सीने में दफ़न है ज़ख्म, जो हमें तुमसे मिला
हश्र देख आशिकी का, लोग इश्क करते नहीं हैं । 

वज़ह मालूम है तुमको, ख़फ़ा होती नहीं 'शब'
शम-ए-हयात में शहज़ोर जलवे, दिखते नहीं हैं । 

__________________________
शम-ए-हयात - शमा रुपी जीवन
शहज़ोर - शक्तिशाली
__________________________

- जेन्नी शबनम (फरवरी 16, 2010)

_____________________________________________

Log ishq karte nahin hain

*******

andhiyaare se kaise ladein, chiraag jalte nahin hain
hoti jahan raushani, wo darwaaze khulte nahin hain.

apni badhaali ka, kisase karen hum shikwa
humdard saamne magar, kadam mere badhte nahin hain.

kal kah diya usne, ki ab na aana tum
mud to gaye magar, bedard pahar katate nahin hain.

tumhaari berukhi se toot, dil ne ye taye kiya
na dekhenge aise khwaab, jo humse palte nahin hain.

seene mein dafan hai zakhm, jo hamein tumse mila
hashra dekh aashiqi ka, log ishq karte nahin hain.

wajah maaloom hai tumko, khafa hoti nahin 'shab'
sham-ae-hayaat mein shahzor jalwe, dikhte nahin hain.

______________________________
sham-ae-hayaat - shama roopi jiwan
shahzor - shaktishaali
______________________________

- Jenny Shabnam (February 16, 2010)

______________________________________________________