Monday, January 11, 2010

114. मेरी उपलब्धि.../ meri uplabdhi...

मेरी उपलब्धि...

*******

सब कहते मेरी उपलब्धियों की
फ़ेहरिस्त बड़ी लम्बी है । 

अक्सर सोचती हूँ
क्या होती है उपलब्धि ?
क्या है मेरी उपलब्धि ?
क्या मेरा मैं होना मेरी उपलब्धि है ?
या कुदरत की कोई गुस्ताख़ी है ?
या है ख़ुदा की बेगारी ?

मैं तो महज़ वक़्त के साथ
कदम दर कदम चलती रही हूँ । 

मैं कहाँ हूँ ?
मैंने क्या किया ?
अनवरत जद्दोज़हद और मशक्कत
मुकम्मल ज़िन्दगी जीने की नाकाम कोशिश !
पर वो भी तो तकदीर में बदा है
मेरे मैं होने की कहानी है
या इस उपलब्धि को पाने की कुर्बानी है ?

साँसों की मंथर गति
लहू की तेज़ रफ्तार
कुछ पल सुहाने
कुछ अफ़साने
अपनों के बिछुड़ने का ग़म
जीवन का बेमियाद सफ़र
क्या ये ही मेरी उपलब्धि है ?

जिसका कोई वज़ूद नहीं
उसकी कैसी उपलब्धि ?
क्या इसे ही कहते हैं उपलब्धि ?
हाँ... शायद इसे ही कहते होंगे
जीवन की उपलब्धि । 
मेरी उपलब्धि... ! 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 11, 2010)

_____________________________________

meri uplabdhi...

*******

sab kahte meri uplabdhiyon ki
feharist badi lambi hai.

aksar sochti hun
kya hoti hai uplabdhi ?
kya hai meri uplabdhi ?
kya mera main hona meri uplabdhi hai ?
ya kudrat ki koi gustaakhi hai ?
ya hai khuda ki begaari ?

main to mahaz waqt ke saath
kadam dar kadam chalti rahi hoon.

main kahan hun ?
maine kya kiya ?
anwarat jaddozehad aur mashakkat
mukammal zindagi jine ki naakaam koshish !
par wo bhi to takdeer mein badaa hai
mere main hone ki kahani hai
ya is uplabdhi ko paane ki kurbaani hai ?

saanson ki manthar gati
lahoo ki tez raftaari
kuchh pal suhaane
kuchh afsaane
apno ke bichhudne ka gam,
jiwan ka bemiyaad safar
kya ye hin meri uplabdhi hai ?

jiska koi wazood nahin
uski kaisi uplabdhi ?
kya ise hi kahte hain uplabdhi ?
haan...shayad ise hin kahte honge
jiwan ki uplabdhi.
meri uplabdhi... !

- Jenny Shabnam (January 11, 2010)

*****************************************************