Sunday, July 18, 2010

156. न बीतेंगे दर्द के अंतहीन पल.../ na beetenge dard ke antaheen pal...

न बीतेंगे दर्द के अंतहीन पल...

*******

स्मृति की गहरी खाई में
फिर उतर आई हूँ,
न चाहूँ फिर भी
वक़्त बेवक्त पहुँच जाती हूँ,
कोई गहरी टीस
सीने में उभरती है,
कोई रिसता घाव
रह-रह कर याद दिलाता है !

मानस पटल पर अंकित
कोई अभिशापित दृष्य,
अतीत के विचलित
वक़्त का हर परिदृष्य,
दर्द की अकथ्य दास्तान
जो रहती अदृष्य !

दुःस्वप्नों की तमाम परछाइयाँ
पीछा करती हैं,
कैसे हर रिश्ता अचानक
पराया बन बैठा,
सभी की निगाहों में
तरस और दया का बोध,
बिचारी का वो संबोधन
जो अब भी बेध जाता है मन !

आज ख़ुद से फिर पूछ बैठी -
किसे कहते हैं बचपन ?
क्या किसी के न होने से सब ख़त्म ?
एक और सवाल ख़ुद से -
क्या सच में कुँवारी बाला मदमस्त चहकती है ?
मैं चहकना क्यों भूली ?
बार बार पूछती -
क्यों हमारे ही साथ ?
कौन बचाएगा गिद्ध दृष्टि से ?
कई सवाल अब भी -
क्यों उम्र और रिशतों के मायने बदल जाते हैं ?
क्यों मझधार में छोड़ सब पार चले जाते हैं ?

न रुका न माना न परवाह
चाहे संसार हो या वक़्त,
मैं भी नहीं रुकी
हर झंझावत पार कर गई,
पर वो टीस और बिचारी के शब्द
फ़फोले की तरह अक्सर सीने में उभर आते हैं,
यूँ बीत तो गए खौफ़ के वर्ष...
पर
उफ्फ़ !
न बीतेंगे दर्द के अंतहीन पल !

- जेन्नी शबनम (18. 7. 2010)

_____________________________________________

na beetenge dard ke antaheen pal...

*******

smriti ki gahri khaai mein
fir utar aai hun,
na chaahun fir bhi
waqt bewaqt pahunch jaati hun,
koi gahri tees
sine mein ubharti hai,
koi rista ghaav
rah-rah kar yaad dilaata hai !

maanas patal par ankit
koi abhishaapit drishya,
ateet ke vichalit
vaqt ka har paridrishya,
dard ki akathya daastan
jo rahti adrishya !

duhswapnon ki tamaam parchhaaiyan
pichha karti hain,
kaise har rishta achaanak
paraaya ban baitha,
sabhi ki nigaahon mein
taras aur daya ka bodh,
bichaari ka wo sambodhan
jo ab bhi bedh jata hai mann !

aaj khud se fir puchh baithi -
kise kahte hain bachpan ?
kya kisi ke na hone se sab khatm ?
ek aur sawaal khud se -
kya sach mein kunwaari baala madmast chahakti hai ?
main chahakna kyon bhooli ?
baar baar puchhti -
kyon humaare hin saath ?
koun bachaayega giddh drishti se ?
kayee sawaal ab bhi -
kyon umra aur rishton ke maayane badal jaate hain ?
kyon majhdhaar mein chhod sab paar chale jaate hain ?

na ruka na maana na parawaah
chaahe sansaar ho ya waqt,
main bhi nahin ruki
har jhanjhaawat paar kar gai,
par wo tees aur bichaari ke shabd
fafole ki tarah aksar sine mein ubhar aate hain,
yun beet to gaye khouf ke warsh...
par
uff !
na beetenge dard ke antaheen pal !

- jenny shabnam (18. 7. 2010)

__________________________________________________