शुक्रवार, 20 मार्च 2020

651. गौरैया (गौरैया पर 15 हाइकु)

गौरैया  
(गौरैया पर 15 हाइकु)

*******

1.  
ओ री गौरैया,  
तुम फिर से आना  
मेरे अँगना।  

2.  
मेरी गौरैया  
चीं चीं चीं चीं बोल री,  
मन है सूना।  

3.  
घर है सूना,  
मेरी गौरैया रानी  
तू आ जा ना रे।  

4.  
लुप्त अँगना  
सूखे ताल-पोखर  
रूठी गौरैया।  

5.  
कंक्रीट फैला  
कहाँ जाए गौरैया  
घोंसला टूटा।  

6.  
प्यासी गौरैया  
प्यासे ताल-तलैया  
कंक्रीट-वन।  

7.  
बिछुड़ी साथी  
हमारी ये गौरैया  
घर को लौटी।  

8.  
झुंड के झुंड  
सोनकंठी गौरैया  
वन को उड़ी।  

9.  
रात व भोर  
चिरई करे शोर  
हो गई फुर्र।  

10.  
भोज है सजा  
पथार है पसरा  
गौरैया खुश।  

11.  
दाना चुगती  
गौरैया फुदकती  
चिड़े को देती।  

12.  
गौरैया बोली -  
पानी दो घोंसला दो  
हमें जीने दो।  

13.  
गौरैया रानी  
आज है इतराती  
संग है साथी।  

14.  
छूटा है देस  
चली है परदेस  
गौरैया बेटी।  

15.  
फुर्र-सी उड़ी  
चहकती गौरैया  
घर वीराना।  

(पथार - सुखाने के लिए फैलाया गया अनाज)   

- जेन्नी शबनम (20. 3. 2020)  
(विश्व गौरैया दिवस पर)


______________________________