Thursday, December 31, 2009

111. ख़ुशबयानी कहो / khushbayaani kaho

ख़ुशबयानी कहो
[''नव वर्ष मंगलमय हो'']

*******

ख़ुशनुमा यादें, आज कोई पुरानी कहो
क्षितिज में हो उत्सव, बात रूहानी कहो । 

सतरंगी किरणों-सी, हो सबकी सुबह
दुनिया नई, सूरज की मेहरबानी कहो । 

तल्ख़ वक़्त का, ज़िक्र न करो सब से
बस गुज़रे हयात की, ख़ुशबयानी कहो । 

क्यों दिल में हो बसाते, कोई एक रब
हर मज़हब का सार, दिल-ज़ुबानी कहो । 

फ़िक्र फ़कत अपनी ज़िन्दगानी का क्यों
फ़क्र तो तब जब हर रूह, इंसानी कहो । 

दर्द-ए-हिज्र की दास्ताँ न कहो 'शब'
ख़याल ही सही, वस्ल की कहानी कहो । 

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 31, 2009)

_________________________________

khushbayaani kaho
[''nav varsh mangalmay ho'']

*******

khushnuma yaadein, aaj koi puraani kaho
kshitij mein ho utsav, baat ruhaani kaho.

satrangi kirnon-si ho, sabki subah
duniya nayee, suraj ki meharbaani kaho.

talkh waqt ka, jikrra na karo sab se
bas gujre hayaat ki, khushbayaani kaho.

kyon dil mein ho basaate, koi ek rab
har mazhab ka saar, dil-zubaani kaho.

fikrra fakat apni zindgaani ka kyun
fakrra to tab jab har rooh, insaani kaho.

dard-e-hizrr kee daastaan na kaho 'shab'
khayal hi sahi, wasl ki kahani kaho.

- Jenny Shabnam (December 31, 2009)

__________________________________________

Tuesday, December 29, 2009

110. तड़पाते क्यों हो / tadpaate kyon ho

तड़पाते क्यों हो

*******

बेइंतेहा इश्क मुझसे जतलाते क्यों हो
मेरी आशिक़ी, गैरों को बतलाते क्यों हो ?

अनसुलझे सवालों से घिरी है ज़िन्दगी
और सवालों से, मुझे उलझाते क्यों हो ?

बेहिसाब कुछ माँगा ही नहीं कभी मैंने
चाहत ज़रा सी देकर, तड़पाते क्यों हो ?

तुम भी चाहो मुझे, ये कब कहा तुमसे
यूँ बेमन इश्क, मुझसे फरमाते क्यों हो ?

तुम मुझमें बसे, चर्चा फरिश्तों ने किया
इश्क नेमत है, तुम ये झुठलाते क्यों हो ?

इबादत होता है, कोई तज़ुर्बा नहीं इश्क
मिलता बामुश्किल, दिल बहलाते क्यों हो ?

तुम्हारी सलामती की दुआ करती 'शब'
इश्क का सलीका, मुझे समझाते क्यों हो ?

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 28, 2009)
_________________________________

tadpaate kyon ho

*******

beintahaan ishq mujhse jatlaate kyon ho
meri aashiqi, gairon ko batlaate kyon ho ?

ansuljhe sawaalon se ghiri hai zindagi
aur sawaalon se, mujhe uljhaate kyon ho ?

behisaab kuchh maangaa hi nahin kabhi maine
chaahat zara see dekar, tadpaate kyon ho ?

tum bhi chaaho mujhe, ye kab kaha tumse
yun beman ishq, mujhse farmaate kyon ho ?

tum mujhmein base, charchaa farishton ne kiya
ishq nemat hai, tum ye jhuthlaate kyon  ho ?

ibaadat hota hai koi tazurbaa nahin ishq
milta baamushkil, dil bahlaate kyon ho ?

tumhaari salaamati ki dua karti 'shab'
ishq ka saleeka, mujhe samjhaate kyon ho ?

- Jenny Shabnam (December 28, 2009)

__________________________________________

Monday, December 21, 2009

109. क्यों मैं ही थी हारी.../ kyon main hi thee haari...

क्यों मैं ही थी हारी...

*******

सताता है वो पल, जब साँसे महक उठी थी कभी
हौसला तो टूट चूका, जाने अब हो किसकी बारी, 
सिसक-सिसक कर सपने रोते, क्यों देखे थे हमको
क्या कहूँ अब कौन है जीता, क्यों मैं ही थी हारी । 

टुकड़े-टुकड़े लफ्ज़ तुम्हारे, हो गये मन में शाया
करूँ क्या जतन बताओ, जीवन ने बहुत तड़पाया, 
मधुर-मधुर हवाओं ने, जब भी मुझे है सहलाया
तुम्हारी छुवन ने जैसे, हर बार मुझे है भरमाया । 

बवंडर जाने कहाँ से आया, उड़ गए सभी निशान
ख़्वाबों का सफ़र फिसल गया, ज्यों हो मुट्ठी का रेत, 
आओ कि न आओ, ओ मेरे मीत उम्मीद न दो
जीने की शर्त मेरी, तेरी कुछ यादें जो हैं अवशेष । 

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 19, 2009)

___________________________________________

kyon main hi thee haari...

*******

sataata hai wo pal, jab saanse mahak uthi thee kabhi
hausla to toot chuka, jaane ab ho kiski baari.
sisak sisak kar sapne rote, kyon dekhe they humko
kya kahun ab kaun hai jeeta, kyon main hi thee haari.

tukde-tukde lafz tumhare, ho gaye man mein shaayaa
karun kya jatan batao, jiwan ne bahut tadpaya.
madhur-madhur hawaaon ne, jab bhi mujhe hai sahlaaya
tumhaari chhuwan ne jaise, har baar mujhe hai bharmaaya.

bawandar jaane kahan se aaya, ud gaye sabhi nishaan
khwaabon ka safar fisal gaya, jyon ho muthhi ka ret.
aao ki na aao, o mere meet ummid na do
jine ki shart meri, teri kuchh yaadein jo hain awshesh.

- Jenny Shabnam (December 19, 2009)

_____________________________________________________

Saturday, December 19, 2009

108. दुआ मेरी अता कर... / dua meri ataa kar...

दुआ मेरी अता कर...

*******

अक्सर सोचती रही हूँ अपनी मात पर
क्यों हर दोस्त मुझको दगा दे जाता है,
इतनी ज़ालिम क्यों हो गई है ये दुनिया
क्यों दोस्त दुश्मनों सा घात दे जाता है । 

कौन बदल सका है कब अपना नसीब
ग़र ख़ुदा मिले भी तो अचरज क्या है,
किसी शबरी को मिलता नहीं अब राम
आह ! प्रेम की वो सीरत जाने क्या है । 

क़ीमत दे कर खरीद पाती ग़र कोई पल
जान दे दूँ कुछ और बेशकीमती नहीं है,
दे दे सुकून की एक साँस, मेरे अल्लाह
चाहे आख़िरी ही हो कोई ग़म नहीं है ।  

मालूम नहीं कब तक है जीना यूँ बेसबब
या रब ! मुक़र्रर अब तारीख आख़िरी कर,
'शब' आज़ार, रंज दुनिया का दूर हो कैसे
ऐ ख़ुदा ! फ़ना हो जाऊँ दुआ मेरी अता कर । 

______________________
आज़ार - दुखी
अता- प्रदान करना/ पुरस्कार देना
______________________

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 16, 2009)

_____________________________________

dua meri ataa kar...

*******

aksar sochti rahi hun apni maat par
kyon har dost mujhko dagaa de jata hai,
itni zaalim kyun ho gayee hai ye duniya
kyon dost dushmanon saa ghaat de jata hai.

kaun badal sakaa hai kab apna naseeb
gar khuda mile bhi to achraj kya hai,
kisi shabri ko milta nahin ab raam
aah ! prem kee wo seerat jaane kya hai.

keemat de kar khareed paati gar koi pal
jaan de dun kuchh aur beshkeemati nahin hai,
de de sukoon ki ek saans, mere allah
chaahe aakhiri hin ho koi gam nahin hai.

maaloom nahin kab tak hai jeena yun besabab
yaa rab ! mukarrar ab taareekh aakhiri kar,
'shab' aazaar, ranj duniya ka door ho kaise
ae khuda ! fana ho jaaun dua meri ataa kar.

________________________________
aazaar - dukhi
ataa - pradaan karna/ puraskaar dena
________________________________

- Jenny Shabnam (December16. 2009)

____________________________________________

Wednesday, December 16, 2009

107. क्यों दिख रही ज़िन्दगी.../ kyon dikh rahi zindagi...

क्यों दिख रही ज़िन्दगी...

*******

मेरे सफ़र की दास्तान न पूछ, ऐ हमदर्द
कम्बख्त ! हर बार ज़िन्दगी छूट जाती है,
पुरज़ोर जब भी पकड़ती हूँ, पाँव ज़मीन के
उफ्फ़ ! किस अदा से किनारा कर जाती है । 

शफ़क के उस पार, दिख रही कुछ रौशनी
एक दीये की लौ है, क्यों दिख रही ज़िन्दगी ?
कौन जला रहा, यूँ अपने दिल को शबोरोज़
मुझे पुकारा नहीं, क्यों बढ़ी जा रही ज़िन्दगी ? 

बस एक बार पलट कर आ भी जा, ऐ वक़्त
मुमकिन है कि मेरी आरज़ू, किसी को नहीं,
शायद हो कोई गुंजाइश, इन अँधेरों में 'शब'
कुछ चिरागों की ख्वाहिशें, बुझी भी तो नहीं । 

______________________
शबोरोज़ - रात-दिन/ लगातार
______________________

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 14, 2009)

_____________________________________________

kyon dikh rahi zindagi...

*******

mere safar ki daastaan na puchh, ae humdard
kambakht! har baar zindagi chhoot jaati hai,
purzor jab bhi pakadti hun, paanw zameen ke
uff! kis adaa se kinaara kar jaati hai.

shafaq ke us paar, dikh rahi kuchh raushani
ek diye kee lau hai, kyon dikh rahi zindagi ?
kaun jalaa rahaa, yun apne dil ko shaboroz
mujhe pukaara nahin, kyon badhi jaa rahi zindagi ?

bas ek baar palat kar aa bhi jaa, ae waqt
mumkin hai ki meri aarzoo, kisi ko nahin.
shaayad ho koi gunjaaish, in andheron mein 'shab'
kuchh chiraagon kee khwaahishein, bujhi bhi to nahin.

__________________________
shaboroz - raat-din/ lagaataar
___________________________

- Jenny Shabnam (December 14, 2009)

_____________________________________________________

Wednesday, December 9, 2009

106. मेरा वक़्त / तुम्हारा वक़्त... / mera waqt / tumhaara waqt...

मेरा वक़्त / तुम्हारा वक़्त...

*******

वक़्त की कमी जीना भूला देती है
वक़्त की कमी जीना भी सिखा देती है । 
देखो न,
पल भर में सब कुछ बदल जाता है
नहीं बदलता तो
कभी-कभी ठहरा हुआ वक़्त । 
अजीब बात है न ?
कभी वक़्त की तेज़ रफ़्तार
कभी शिथिल क्षत-विक्षत वक़्त । 

हाँ, तुम भी तो वक़्त के साथ बदलते रहे हो
कभी इतना ढ़ेर सारा वक़्त कि पूछते हो -
खाना खाया, दवा खाया, सुई लिया ?
आज की एक ताज़ा ख़बर सुनो न !
देश दुनिया के हालात पर गहन चर्चा करते -
अकाल, अशिक्षा, गरीबी, महँगाई, बेरोज़गारी,
सैनिकों और किसानों की आत्महत्या,
पड़ोसी देश की कूटनीति, देश की आतंरिक अव्यवस्था,
आतंकवाद, अलगाववाद, क्षेत्रीयतावाद, नक्सलवाद,
राजनितिक पार्टियों का तमाशा,
दहेज़-हत्या, भ्रूण-हत्या, बलात्कार,
धर्म पर हमारा अपना-अपना दृष्टिकोण । 
बचपन के किस्से, दोस्तों की गाथा,
बच्चों का भविष्य, रिश्तेदारों के स्वार्थपरक सम्बन्ध,
गुजरे वक़्त की खट्टी-मीठी यादें,
बहुत कुछ बाँटते कभी-कभी तुम । 

कभी इतना भी वक़्त नहीं कि पूछो -
मैं ज़िंदा भी हूँ । 
क्या मैं जिंदा हूँ ?
हाँ, शायद, ज़िंदा ही तो हूँ
क्योंकि मैं तुम्हारे वक़्त का इंतज़ार करती रहती हूँ
वक़्त की परेशानी सदा तुम्हारी है, मेरी नहीं । 

मैं तो वक़्त के साथ ठहरी हुई हूँ
जहाँ छोड़ जाते रुकी रहती हूँ
जितना कहते सुनती जाती हूँ
जितना पूछते बताती जाती हूँ
जो चाहते करती जाती हूँ । 
क्योंकि मेरे वक़्त की उपलब्धता तुम्हारे लिए महत्वपूर्ण नहीं
न ही मेरे वक़्त और मेरी बात की कोई अहमियत है तुम्हारे लिए । 
तुम्हारे पास, तुम्हारे साथ, तुम्हारे लिए आई हूँ
तुम्हारी सुविधा केलिए, तुम्हारा खाली वक़्त बाँटने
अपना वक़्त नहीं । 

- जेन्नी शबनम (दिसंबर 8, 2009)

________________________________________________________

mera waqt / tumhaara waqt...

*******

waqt ki kami jina bhoola deti hai,
waqt ki kami jeena bhi sikha deti hai.
dekho na
pal bhar mein sab kuchh badal jata hai
nahin badalta to
kabhi kabhi thahraa hua waqt.
ajeeb baat hai na ?
kabhi waqt ki tez raftaar
kabhi shithil kshat-vikshat waqt.

haan, tum bhi to waqt ke saath badalte rahe ho
kabhi itna dher saara waqt ki puchhte ho -
khaana khaaya, dawaa khaaya, sui liya ?
aaj ki ek taazaa khabar suno na !
desh duniya ke haalaat par gahan charchaa karte -
akaal, ashiksha, gareebi, mahangaai, berozgaari,
sainikon aur kisaano ki aatm-hatya,
padosi desh ki kootniti, desh ki aantarik avyawastha,
aatank-waad, algaaw-waad, kshetriyata-waad, naksal-waad,
raajnitik paartiyon ka tamasha,
dahej-hatya, bhrun-hatya, balatkaar,
dharm par hamara apna apna drishtikon.
bachpan ke kisse, doston ki gaatha,
bachchon ka bhawishya, rishtedaaron ke swaarthparak sambandh,
gujre waqt ki khatti-mithi yaaden,
bahut kuchh baantate kabhi-kabhi tum.

kabhi itna bhi waqt nahin ki puchho -
main zinda bhi hoon.
kya main zinda hoon ?
haan, shaayad, zinda hin to hoon
kyonki main tumhaare waqt ka intzaar karti rahti hun
waqt ki pareshaani sadaa tumhaari hai, meri nahi.

main to waqt ke sath thahri hui hoon
jahan chhod jate ruki rahti hoon
jitna kahte sunti jati hoon
jitna puchhte bataati jati hoon
jo chahte karti jati hoon.
kyonki mere waqt ki uplabdhta tumhare liye mahatwapurn nahin,
na hi mere waqt aur meri baat ki koi ahmiyat hai tumhare liye.
tumhaare paas, tumhaare saath, tumhaare liye aai hoon
tumhaari suwidha keliye, tumhara khaali waqt baantne
apnaa waqt nahin.

- Jenny Shabnam (December 8. 2009)

____________________________________________________________

Thursday, December 3, 2009

105. मेरा अल्लाह मेरा राम / mera allah mera ram

मेरा अल्लाह मेरा राम

*******

आंते सिकुड़ी भूख़ से, मासूम जानों की बढ़ती कतार
तुम कहते हो, हम हैं लाचार, देता अल्लाह देता राम !

दुनिया एक छोटी सी, हैं सबने किए टुकड़े कई हज़ार,
ख़ुदा को भी बाँटा, किसी का अल्लाह किसी का राम !

हो अनुरागी या चाहे बैरागी, गुहार लगाते दर्शन की
मन में ढूँढ़ो वहीं बैठा, तुम्हारा अल्लाह तुम्हारा राम !

जितनी ही नफ़रत पालोगे, और बहेगा खून का दरिया
वो है सबका पालनहारा, किसका अल्लाह किसका राम !

जाने कितने सहमे हम सब, रोज़ उठाते इतनी आफ़त
नया बवाल क्यों बढ़ाते, जिसका अल्लाह जिसका राम !

कर गुनाह हरदम भटकते, वास्ते माफ़ी के दैरो-हरम
होती नहीं माफ़ी जितना जपो, मेरा अल्लाह मेरा राम !

फूलों की खुशबू में पाओ, या काँटों की चुभन में देखो
है एक वो मगर सर्वव्यापी, सबका अल्लाह सबका राम !

तुम भटको मंदिर-मस्ज़िद, मिलेगा न कोई तारणहार
'शब' से पूछो मन में बसा, उसका अल्लाह उसका राम !

- जेन्नी शबनम (नवंबर 26, 2009)

______________________________________________

mera allah mera ram

*******

aante sikudi bhookh se, maasoom jaanon ki badhti kataar
tum kahte ho, hum hain laachaar, deta allah deta ram.

duniya ek chhoti see, hain sabne kiye tukde kai hazaar
khuda ko bhi baanta, kisi ka allah kisi ka ram.

ho anuraagi ya chaahe bairaagi, guhaar lagaate darshan ki
man mein dhundho wahin baitha, tumhara allah tumhara ram.

jitni hin nafrat paaloge, aur bahega khoon ka dariya
wo hai sabka paalanhaara, kiska allah kiska ram.

jaane kitne sahme hum sab, roz uthaate itni aafat
nayaa bawaal kyun badhaate, jiska allah jiska ram.

kar gunaah hardam bhatakte, waaste maafi ke dairo-haram
hoti nahin maafi jitna japo, mera allah mera ram.

phoolon ki khushboo mein paao, ya kaanton ki chubhan mein dekho
hai ek wo magar sarwavyaapi, sabka allah sabka ram.

tum bhatko mandir-maszid, milega na koi taaranhaar
'shab' se puchho man mein basaa, uska allah uska ram.

- Jenny Shabnam (November 26, 2009)

_____________________________________________________________

Tuesday, December 1, 2009

104. राह मुकम्मल करनी है / raah mukammal karni hai

राह मुकम्मल करनी है

*******

साथी छूटे कि राह भूले, ये ज़िन्दगी तो चलनी है
मन हारे कि तन हारे, हर राह मुकम्मल करनी है 

आँखों के सागर में डूबी, प्यासी रूह भटकती मेरी
उससे दूर जिएँ हम कैसे, मगर साँस तो भरनी है 

ज़ख्म दे मरहम लगाता, अजब है उसकी आशनाई
हँस-हँस कर सह लें मगर, दिल मेरा तो छलनी है 

ऐ ख़ुदा उसे बख्श दे, कमी नहीं तेरी हुकूमत में
दरकार तो हमें बुला, ज़िन्दगी यूँ भी कब कटनी है 

वादा किया था उसने, हर जन्म में साथ निभाने का
तोड़ा वादा इस जीवन का, अब ख़्वाहिश भी मरनी है 

लेंगे साथ जन्म दोबारा, फिर दूर कभी न होंगे हम,
इस उम्र की साध सभी, मन में जतन से रखनी है 

तन्हाई से घबड़ा कर, पनाह माँगती 'शब' ख़ुदा से
शब की फितरत, हर शब को तन्हा-तन्हा जलनी है 

- जेन्नी शबनम (दिसंबर 1, 2009)

______________________________________________

raah mukammal karni hai

*******

saathi chhute ki raah bhoole, ye zindagi to chalni hai
man haare ki tan haare, har raah mukammal karni hai.

aankhon ke saagar mein doobi, pyaasi rooh bhatakti meri
usase door jiyen hum kaise, magar saans to bharni hai.

zakham de marham lagaata, ajab hai uski aashnaai
huns huns kar sah lein magar, dil mera to chhalni hai.

ae khuda use bakhsh de, kami nahin teri hukumat mein
darkaar to hamein bulaa, zindagi yun bhi kab katni hai.

waadaa kiya thaa usne, har janm mein saath nibhaane ka
todaa waadaa is jiwan ka, ab khwaahish bhi marni hai.

lenge saath janm dobaaraa, fir door kabhi na honge hum
is umrr ki saadh sabhi, man mein jatan se rakhni hai.

tanhaai se ghabra kar, panaah maangti 'shab' khuda se
shab ki fitrat, har shab ko tanha-tanha jalni hai.

 - Jenny Shabnam (December 1, 2009)

___________________________________________________