Monday, September 7, 2009

82. तुम्हें इंसान बना दिया

तुम्हें इंसान बना दिया

*******

सज़दे में झुक गया सिर
जब रगों में इश्क पसर गया
वक़्त की देने गवाही, देखो
ख़ुदा भी ज़मीन पे उतर गया !

पहलू में एक बुत था
तुमने जीवन भर दिया
पाकीज़गी का ये आलम, देखो
अश्कों में तुमने, चरणामृत भर दिया !

अपनी हँसी, तुम्हें थमा कर
तुममें दर्द भी भर दिया,
फ़रिश्ता हो अब भी, तुम मेरे
देखो, आज तुम्हें इंसान कर दिया !

अब जाओगे कैसे, कहीं तुम
तुम्हें अपने दिल में समा दिया,
हम कहते थे, कि तुम ख़ुदा हो
जाओ, आज तुम्हें इंसान बना दिया !

- जेन्नी शबनम (सितम्बर 3, 2009)

_______________________________

tumhen insaan banaa diya...

*******

sazde mein jhuk gaya sir
jab ragon mein, ishq pasar gaya,
waqt kee dene gawaahi, dekho
khudaa bhi zameen pe utar gaya.

pahloo mein ek but tha
tumne jiwan bhar diya,
paakeezgi ka ye aalam, dekho
ashqon mein tumne, charanaamrit bhar diya.

apni hansi tumhein thama kar
tum.mein dard bhi bhar diya,
farishtaa ho ab bhi, tum mere
dekho, aaj tumhein insaan kar diya.

ab jaaoge kaise, kahin tum
tumhein apne dil mein samaa diya,
hum kahte they, ki tum khuda ho
jaao, aaj tumhein insaan banaa diya.

- jenny shabnam (september 3, 2009)

___________________________________