Sunday, June 20, 2010

149. बाबा आओ देखो ! तुम्हारी बिटिया रोती है... / baba aao dekho ! tumhaari bitiya rotee hai...

बाबा आओ देखो ! तुम्हारी बिटिया रोती है...

*******

मन में अब भी कहीं, एक नन्ही-सी बच्ची पलती है
जाने क्या-क्या सपने बुनती, दूर आसमान को ताकती है 
शायद वहाँ से कोई परी, उसके बाबा को ले आएगी
गोद बाबा के बैठ, वो अपने सारे दुखड़े रोएगी 

क्यों चले गए, तुम छोड़ के बाबा
देखो बाप बिन बेटी, कैसे जीती है,
बूँद आँसू न बहे, तुमने इतने जतन से पाले थे
देखो आज अपनी बिटिया को, अपने आँसू पीती है 

जाना ही था, तो साथ अपने, मुझे और अम्माँ को भी ले जाते
मेरे आधे आँसू, अम्माँ की आँखों से भी बहते हैं,
मेरी उथली हँसी और पनीली आँखें, बिन कहे अम्माँ पहचानती है
वो अपने सारे ग़म भूल, मेरे दुःख से रोती है 

जाने को तुम चले गए, किस्मत हमारी भी ले गए
हम कैसे जिएँ बताओ बाबा, अपना दर्द किसे सुनाएँ बाबा,
जानती हूँ, आसमान से, न कोई परी आएगी न तुम आओगे
फिर भी, मन में अब भी, एक नन्ही बच्ची पलती है 

तुम सितारा बन आसमान में चले गए, बचपन में दादी कहती थी
आँसुओं से तर उसकी आँखें, रोज़ मुझे और भैया को, नई कहानी सुनाती थी 
बाबा आओ देखो ! तुम्हारे सारे अपने रोते हैं
एक दूसरे के सामने, अपने आँसू छुपाते हैं 

सपनों में तुम आते हो, जैसे कभी कहीं तुम गए नहीं
सपनों में ही कह दो आकर, कब तक यूँ आँसू और बहेंगे 
बाबा ! इतना तो कह कर जाते, कभी नहीं तुम आओगे
चाहे जितना भी रोयें हम, वापस नहीं तुम आओगे 

बच्ची नहीं औरत हूँ अब, किसी का घर भी बसाना है
कोख़ जायों को अपने, उनकी मंज़िल तक पहुँचाना है 
ज़हर घूँट का पीकर भी, सबकी ख़ातिर जीना है
तुमसे शिकवा कर, पल-पल अपने आँसू पोंछना है 

बाबा ! जब भी आँसू बहते हैं, मन छोटी बच्ची बन जाता है
जानती हूँ, तुम आसमान में नहीं रहते, न कोई परी रहती है 
दूर आसमान से तुम देख रहे, मन को झूठी तसल्ली होती है
बाबा आओ देखो ! तुम्हारी प्यारी बिटिया रोती है 

- जेन्नी शबनम (27. 9. 2008)

___________________________________________________

baba aao dekho ! tumhaari bitiya rotee hai...

*******

mann mein ab bhi kahin, ek nanhi-see bachchee paltee hai
jaane kya-kya sapne buntee, door aasmaan ko taaktee hai.
shaayad wahaan se koi paree, uske baba ko le aayegi
goad baba ke baith, wo apne saare dukhde royegi.

kyon chale gaye, tum chhod ke baba
dekho baap bin betee, kaise jeetee hai,
boond aansoo na bahe, tumne itne jatan se paale they
dekho aaj apni bitiya ko, apne aansoo pitee hai.

jana hi tha, to saath apne, mujhe aur amma ko bhi le jaate
mere aadhe aansoo, amma kee aankho se bhi bahte hain,
meri uthli hansi aur paneelee aankhe, bin kahe amma pahchaantee hai
wo apne saare gam bhool, mere dukh se rotee hai.

jane ko tum chale gaye, kismat humari bhi le gaye
hum kaise jiyen batao baba, apna dard kise sunaayen baba.
janti hoon, aasman se, na koi paree aayegi, na tum aaoge
phir bhi, mann mein ab bhi, ek nanhi bachchi paltee hai.

tum sitaara ban aasman mein chale gaye, bachpan mein daadi kahtee thi
aasuon se tar uski aankhen, roz mujhe aur bhaiya ko, nayee kahaani sunaati thi.
baba aao dekho ! tumhaare saare apne rote hain
ek dusre ke saamne, apne aansoo chhupaate hain.

sapno mein tum aate ho, jaise kabhi kahin tum gaye nahi
sapno mein hi kah do aakar, kab tak yun aansoo aur bahenge,
baba ! itna to kah kar jate, kabhi nahi tum aaoge
chaahe jitna bhi royen hum, waapas nahi tum aaoge.

bachchi nahi aurat hun ab, kisi ka ghar bhi basaana hai,
kokh jaayon ko apne, unki manzil tak pahuchaana hai.
zehar ghunt ka pikar bhi, sabki khaatir jina hai,
tumse shikwa kar, pal pal apne aansoo pochhna hai.

baba ! jab bhi aansoo bahte hain, mann chhoti bachchee ban jaata hai,
jaanti hun, tum aasman mein nahi rahte, na koi paree rahti hai.
door aasman se tum dekh rahe, mann ko jhoothi tasalli hoti hai,
baba aao dekho...tumhaari pyaari bitiya rotee hai.

- Jenny Shabnam (27. 9. 2008)

______________________________________________________________

Saturday, June 19, 2010

148. सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ / sard mousam ki thandi main chhaanv hoon

सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ

*******

सर्द मौसम की ठंडी मैं छाँव हूँ
कोई ठहर न सके वो मैं पड़ाव हूँ !

दुनिया है सागर की क्रूर लहरें
सहती साहिल का मैं कटाव हूँ !

चुन-चुन के बटोरती रही पीड़ा
और ख़ुद ही करती मैं बचाव हूँ !

रगों में रक्त अब बहता नहीं
जो बुझ चुका वो मैं अलाव हूँ !

ज़ख़्मी हुई ख़ुद की ख़ता से
रो-रो कर भरती मैं घाव हूँ !

'शब' ने तो कभी दिया नहीं
ख़ुद को ही देती मैं तनाव हूँ !

- जेन्नी शबनम (18. 6. 2010)

____________________________________

sard mousam ki thandi main chhaanv hoon

*******

sard mousam ki thandi main chhaanv hun
koi thahar na sake vo main padaav hun.

duniya hai saagar ki krur lahren
sahti saahil ka main kataav hun.

chun-chun ke batorti rahi peeda
aur khud hin karti main bachaav hun.

ragon mein rakt ab bahta nahin
jo bujh chuka vo main alaav hun.

zakhmi hui khud ki khata se
ro-ro kar bharti main ghaav hun.

'shab' ne to kabhi diya nahin
khud ko hi deti main tanaav hun.

- Jenny Shabnam (18. 06. 2010)

_____________________________________

Wednesday, June 9, 2010

147. मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई / meri wafa kyon baatil hui

मेरी वफ़ा क्यों बातिल हुई

*******

न दख़ल दिया, न दाख़िल हुई
फिर मेरी वफ़ा, क्यों बातिल हुई !

हर ज़ुल्म का इल्ज़ाम मुझपर
मज़लूम भी मैं, और कातिल हुई !

मेरी महज़ूनियत, गैरवाज़िब क्यों
जन्नत भला, किसे हासिल हुई !

मेरे ख़्वाबों ने, कहाँ पहुँचाया मुझे
दामगाह में, ज़िन्दगी शामिल हुई !

समंदर में डूबी, पर भींगी नहीं
मज़िरत ही सही, मैं जाहिल हुई !

तखल्लुस जब सुना 'शब' का
फ़जीहत फिर, सरे महफ़िल हुई !
_______________________________

बातिल - निरर्थक/ गलत
मज़लूम - जिस पर अत्याचार हुआ हो
महज़ूनियत - उदासीनता
दामगाह - फ़रेब की जगह/ जहाँ जाल बिछा हो
मज़िरत - विवशता/ मजबूरी
जाहिल - निपट मूर्ख
तखल्लुस - उपनाम
_______________________________

- जेन्नी शबनम (9. 6. 2010)

______________________________________________

meri wafa kyon baatil hui

*******

na dakhal diya, na daakhil hui
fir meri wafa, kyon baatil hui.

har zulm ka ilzaam mujhpar
mazloom bhi main, aur kaatil hui.

meri mahzuniyat, gairwaajib kyon
jannat bhala, kise haasil hui.

mere khwaabon ne, kahaan pahunchaaya mujhe
daamgaah mein, zindgi shaamil hui.

samandar mein doobi, par bhingi nahin
mazirat hin sahi, main jaahil hui.

takhallus jab suna 'shab' ka
fajihat fir, sare mahafil hui.
_______________________________

baatil - nirarthak/ galat
mazloom - jis par atyaachaar hua ho
mahzuniyat - udaasinta
damgaah - fareb ki jagah/ jahaan jaal bichha ho
mazirat - vivashta/ mazburi
jaahil - nipat murkh
takhallus - upnaam
_______________________________

- Jenny Shabnam (9. 6. 2010)

__________________________________________________

Wednesday, June 2, 2010

146. अपना न कोई ज़िक्र की / apna na koi zikra ki

अपना न कोई ज़िक्र की

*******

चाँदनी है मगर, रात जैसे हिज़्र की
ढ़ल तो जायेगी, बात नहीं फ़िक्र की !

छाया घना कोहरा, सबब क्या बताएँ
बात तो होगी मगर, नहीं मेरे मित्र की !

यादों को यूँ सहेजना, सीने में हमदम
पिरामिड में स्थित, ज्यों रानी मिस्र की !

हुए वो बेगाने, पर गंध ठहर गई मुझमें
ख़ुशबू मिलेगी सबको, महज़ उनके इत्र की !

जाने कब बन गई थी, 'शब' एक नज़्म
मिली तो मगर, अपना न कोई ज़िक्र की !

- जेन्नी शबनम (23. 5. 2010)

_______________________________________

apna na koi zikra ki

*******

chaandni hai magar, raat jaise hizra ki
dhal to jayegi, baat nahin fikra ki.

chhaya ghana kohra, sabab kya batayen
baat to hogi magar, nahin mere mitra ki.

yaadon ko yun sahejna, seene mein humdam
piraamid mein sthit, jyon raani misra ki.

hue wo begaane, par gandh thahar gai mujhmein
khushboo milegi sabko, mahaz unke itra ki.

jaane kab ban gai thee, 'shab' ek nazm
mili to magar, apna na koi zikra ki.

- Jenny Shabnam (23. 5. 2010)

_______________________________________________