Tuesday, May 11, 2010

142. सोई नहीं मर गई है रात / soi nahin mar gai hai raat

सोई नहीं मर गई है रात

*******

भटक कर बहुत, थक गई है रात
आगोश में अपने ही, सोई है रात !

किसी ने थपकी दे, सुलाया कभी
वह नींद कहीं, छोड़ आई है रात !

कोई जागा था, तमाम रात कभी
रह गई तन्हाई, और रोई है रात !

चाह थी, वस्ल की एक रात मिले
हर रात जाग कर, बीताई है रात !

किसी की नज़्म बनी, रात मगर
अधूरी नज़्म ही, बन पाई है रात !

आस टूटी, अब कैसे दिखे उजाला
मान लो, अपना नहीं कोई है रात !

जागती रात, एक अँधियारा है बस
जाग कर हर सपना, खोई है रात !

उदासियों में भी, चहकती थी 'शब'
ओह ! वो सोई नहीं, मर गई है रात !

- जेन्नी शबनम (10. 5. 2010)

_____________________________________

soi nahin mar gai hai raat

*******

bhatak kar bahut, thak gai hai raat
aagosh mein apne hi, soi hai raat !

kisi ne thapki de, sulaaya kabhi
wah nind kahin, chhod aai hai raat !

koi jaaga tha, tamaam raat kabhi
rah gai tanhaai, aur roi hai raat !

chaah thi, wasl ki ek raat mile
har raat jaag kar, bitai hai raat !

kisi ki nazm bani, raat magar
adhuri nazm hi, ban pai hai raat !

aas tooti, ab kaise dikhe ujaala
maan lo, apna nahin koi hai raat !

jaagati raat, ek andhiyaara hai bas
jaag kar har sapna, khoi hai raat !

udaasiyon mein bhi, chahakti thi 'shab'
ohh ! wo soi nahin, mar gai hai raat !

- Jenny Shabnam (10. 5. 2010)

_______________________________________