Monday, February 18, 2013

382. जाड़ा भागो (13 हाइकु)

जाड़ा भागो (13 हाइकु)

*******

1.
आँख मींचती
थर-थर काँपती 
ठंडी हवाएँ ।

2.
आलसी दिन 
है झटपट भागा 
जो जाड़ा दौड़ा ।

3.
सूरज सोता 
सर्द-सर्द मौसम
आग तापता ।

4.
ज़रा-सी धूप 
पिटारी में छुपा लो 
सर्दी के लिए ।

5.
स्वेटर-शाल
मन में इतराए 
जाड़ा जो आए ।

6.
हार ही गई 
ठिठुरती हड्डियाँ
असह्य शीत । 

7.
कुनमुनाता
गीत गुनगुनाता  
सूरज जागा ।
8.
मोती-सी बिछी 
सारी रात बिखरी
जाड़े की ओस । 

9.
सूर्य अकड़ू     
कम्बल औ रजाई 
देते दुहाई ।

10.
दिन काँपता 
रात है ठिठुरती
ऐ जाड़ा, भागो !

11.
रस्सी पे टँगा   
घना काला कोहरा 
दिन औ रात ।  

12.
सूर्य देवता 
अब जाग भी जाओ 
जाड़ा भगाओ ! 

13.
सूरज जागा 
धूप खिलखिलाई   
कोहरा भागा ।

- जेन्नी शबनम (दिसम्बर 26, 2012)

_____________________________