Saturday, April 10, 2010

133. मैं नज़्म बनती रही / main nazm banti rahi

मैं नज़्म बनती रही

*******

ज़िन्दगी ढ़लती रही, मैं नज़्म बनती रही
उनकी ख़्वाहिश पर, मैं ग़ज़ल बनती रही !

रोज़ नयी सूरत कहाँ से लाऊँ बताएँ ज़रा
जब भी मिले हैं वो, मैं तस्वीर बनती रही !

ख़बर मुझे भी है कि वो इश्क करते नहीं
ख्वाब ही सही मगर, मैं नादान बनती रही !

काँधा देंगे वो जब फ़ना हो जाऊँगी जहां से
जीकर उनके क़दमों की, मैं धूल बनती रही !

जब भी पुकारा उनको रहे डूबे गैरों में वो
उनकी हर एक चाह पे, मैं ख़ाक बनती रही !

इश्क की ताज़ीर होती है अज़ब देखो 'शब'
ख़ता उनकी मगर, मैं गुनहगार बनती रही !
______________________

ताज़ीर - सज़ा / दंड देना
______________________

- जेन्नी शबनम (10. 4. 2010)

_________________________________________

main nazm banti rahi

*******

zindgi dhalti rahi, main nazm banti rahi
unki khwaahish par, main ghazal banti rahi.

roz nayee soorat kahaan se laaun bataayen zara
jab bhi mile hain wo, main tasweer banti rahi.

khabar mujhe bhi hai ki wo ishq karte nahin
khwaab hin sahi magar, main naadan banti rahi.

kaandha denge wo jab fana ho jaaungi jahaan se
jikar unke kadmon ki, main dhool banti rahi.

jab bhi pukara unko rahe doobe gairon mein wo
unki har ek chaah pe, main khaak banti rahi.

ishq ki taazeer hoti hai azab dekho 'shab'
khata unki magar, main gunahgaar banti rahi.

___________________________

taazeer - saza / dand dena

___________________________

- Jenny Shabnam (10. 4. 2010)

__________________________________________________