Sunday, January 17, 2010

116. मेरा मन... / mera mann...

मेरा मन...

*******

हर राह पर बैठा एक साया
जाने किसको ढूँढ़ता है मन,
रौशनी मिली ही कब थी कभी
क्यों अँधियारों से डरता है मन । 

अंतहीन संघर्ष पर विफल ज़िन्दगी
कितना जोख़िम और उठाए ये मन,
क्यों मिली साँसों की डोर लम्बी इतनी
ज़िन्दगी के बंधन से अब उब गया ये मन । 

आज फिर इंकार है मुझे ख़ुदा के वज़ूद से
बताओ और कितना ख़िदमत करे मेरा मन,
थक गया आज ख़ुदा भी करके अपनी जादूगरी
तकदीर के फरेबों से घबड़ा के थक गया मेरा मन । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 15, 2010)

__________________________________________

mera mann...

*******

har raah par baitha ek saaya
jaane kisko dhoondhta hai mann,
raushni mili hi kab thee kabhi
kyon andhiyaaron se darta hai mann.

antheen sangharsh par wifal zindagi
kitna jokhim aur uthaaye ye mann,
kyon mili saanson ki dor lambi itni
zindagi ke bandhan se ab ub gaya ye mann.

aaj fir inkaar hai mujhe khuda ke wuzood se
bataao aur kitna khidmat kare mera mann,
thak gaya aaj khuda bhi karke apni jaadugari
takdeer ke farebon se ghabda thak gaya mera mann.

- Jenny Shabnam (January 15, 2010)

_______________________________________________