Thursday, April 17, 2014

450. चाँद-चाँदनी (चाँद पर 7 हाइकु)

चाँद-चाँदनी
(चाँद पर 7 हाइकु)

*******

1.
तप करता
श्मशान में रात को
अघोरी चाँद !

2.
चाँद न आया
इंतज़ार करती
रात परेशाँ !

3.
वादाखिलाफ़ी
चाँद ने फिर से की 
फिर न आया !

4.
ख़्वाबों में आई
दबे पाँव चाँदनी
बरगलाने ।

5.
तमाम रात
आँधियाँ चली, पर
चाँद न उड़ा ।

6.
पूरनमासी
जिनगी में है लाई
पी का सनेस ।

7.
नशे में धुत्त
लड़खड़ाता चाँद
झील में डूबा ।

- जेन्नी शबनम (11. 4. 2014)

_________________________