Friday, August 6, 2010

162. रूठे मन हमें मनाने पड़ते / ruthe mann humen manaane padte

रूठे मन हमें मनाने पड़ते

*******

लम्हों की मानिंद, सपने भी पुराने पड़ते
ख्व़ाब देखें, रूठे मन हमें मनाने पड़ते !

जहाँ-जहाँ कदम पड़े, हमारी चाहतों के
सोए हर शय, हमें ही है जगाने पड़ते !

तूफ़ान का रूख़ मोड़ देंगे, जब भी सोचे
ख़ुद में हौसले, ख़ुद हमें ही लाने पड़ते !

तन्हाईयों की बाबत, जब पूछा सबने
अपने हर अफ़साने, हमें सुनाने पड़ते !

लोग पूछते, आज नज़्म में कौन बसा है
रोज़ नए मेहमान, 'शब' को बुलाने पड़ते !

- जेन्नी शबनम (3. 8. 2010)

______________________________________

ruthe mann humen manaane padte

*******

lamhon ki manind, sapne bhi puraane padte
khwaab dekhen, ruthe mann humen manaane padte !

jahaan jahaan kadam pade, humaari chaahaton ke
soye har shay, humen hi hai jagaane padte !

tufaan ka rukh mod denge, jab bhi soche
khud men housle, khud humen hi laane padte !

tanhaaiyon ki baabat, jab puchha sabne
apne har afsaane, humen sunaane padte !

log puchhte, aaj nazm men koun basa hai
roz naye mehmaan, 'shab' ko bulaane padte !

- jenny shabnam (3. 8. 2010)

______________________________________________