Wednesday, March 31, 2010

131. अब इंतज़ार है.../ ab intzaar hai...

अब इंतज़ार है...

*******

क्यों है ये संवादहीनता
या फिर है संवेदनहीनता,
पर जज़्बात तो अब भी वही
जाने क्यों मुखरित होते नहीं !

बेवक्त खींचा आता था मन
बेसबब खिल उठता था पल,
हर वक़्त हवाओ में तैरते थे
एहसास जो मन में मचलते थे !

यकीन है लौट आयेंगे शब्द मेरे
बस थोड़े रूठ गये हैं लफ्ज़ मेरे,
प्रवासी पखेरू की तरह छोड़ गये हैं
मौसम के आने का मुझे अब इंतज़ार है !

- जेन्नी शबनम (30. 3. 2010)

__________________________________

ab intzaar hai...

*******

kyon hai ye samvaadheenta
ya hai ye samvedanheenta,
par jazbaat to ab bhi wahi
jaane kyon mukhrit hote nahin !

bewaqt kheencha aata thaa mann
besabab khil uthta tha pal,
har waqt hawaaon mein tairte they
ehsaas jo mann mein machalte they !

yakeen hai laut aayenge shabd mere
bas thode rooth gaye hain lafz mere,
prawaasi pakheru ki tarah chhod gaye hain
mausam ke aane ka mujhe ab intzaar hai !

- jenny shabnam (30. 3. 2010)

___________________________________________