Tuesday, January 26, 2010

121. इमरोज़ से / Imroz se

इमरोज़ से
[इमरोज़ जी के जन्मदिन (26. 1. 2010) पर]

*******

इमरोज़ से अक्सर मैं अपने जवाब, पूछती रही हूँ
शायद उनके तजुर्बों में, ज़िन्दगी तलाशती रही हूँ । 

इश्क क्या और ज़िन्दगी क्या होती, समझ न सकी
कुछ जवाब मिले, कुछ और सवालों से घिरती रही हूँ । 

आज फिर यहाँ देखा, कुछ जवाब जो मेरे लिए रखे हैं
अमृता की नज़्मों से, कुछ सवाल जो मैं करती रही हूँ । 

वो कहते - अमृता उस कमरे में बैठी नज़म लिखती है
जब भी उनसे मिली, उनकी अमृता से मिलती रही हूँ । 

'शब' पूछती है - इश्क से पाक क्या होती कोई नज़म ?
हँस कर कहते - वो है पाक नज़म जो मैं लिखती रही हूँ । 

- जेन्नी शबनम (जनवरी 26, 2010)

____________________________________________

Imroz se

[Imroz ji ke janmdin (26. 1. 2010) par]


*******

Imroz se aksar main apne jawaab, puchhti rahi hoon
shaayad unke tazurbon mein, zindagi talaashti rahi hoon.

ishq kya aur zindagi kya hoti, samajh na saki
kuchh jawaab mile, kuchh aur sawaalon se ghirti rahi hoon.

aaj phir yahaan dekha, kuchh jawaab jo mere liye rakhe hain
amrita ki nazmon se, kuchh sawaal jo main karti rahi hoon.

wo kahte - amrita us kamre men baithi nazm likhti hai
jab bhi unse mili, unki amrita se milti rahi hoon.

'shab' puchhti hai - ishq se paak kya hoti koi nazm ?
hans kar kahte - wo hai paak nazm jo main likhti rahi hoon.

- Jenny Shabnam (January 26, 2010)

___________________________________________________