सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

213. यह सब इत्तेफ़ाक़ नहीं...

यह सब इत्तेफ़ाक़ नहीं...

*******

कई लम्हे जो चुपके से
मेरे हवाले किये तुमने
और कुछ पल चुरा लिए
ज़माने से हमने !
इतना जानती हूँ
यह सब इत्तेफ़ाक़ नहीं
तकदीर का कोई रहस्य है
जो समझ से परे है !
बेहतर भी है कि न जानूँ,
जानना भी नहीं चाहती
क्यों हुआ यह इत्तेफ़ाक़?
क्या है रहस्य?
किसी आशंका से भयभीत हो
उन एहसासों को खोना नहीं चाहती
जो तुमसे पायी हूँ !
जानती हूँ
कोई मंज़िल नहीं
न मिलनी है कभी मुझे
फिर भी हर बार
एक नयी ख़्वाहिश पाल लेती हूँ
और थोड़ा-थोड़ा जी लेती हूँ !
जीवन के वो सभी पल
मुमकिन है
अब दोबारा न मिल पाए,
फिर भी उम्मीद है
शायद
एक बार फिर...!
अब बस जीना चाहती हूँ
आँखें मूँद उन पलों के साथ
जिनमें
तुम्हें न देख रही थी
न सुन रही थी
सिर्फ तुम्हें जी रही थी !

- जेन्नी शबनम (14 . 2 . 2011)

______________________________