Thursday, September 4, 2014

467. गाँव (गाँव पर 20 हाइकु)

गाँव 
(गाँव पर 20 हाइकु) 


1.
माटी का तन  
माटी में ही खिलता  
जीवन जीता ! 

2.
गोबर-पुती 
हर मौसम सहे 
झोपड़ी तनी ! 

3.
अपनापन 
बस यहीं है जीता  
हमारा गाँव ! 

4.
भण्डार भरा,  
प्रकृति का कुआँ    
दान में मिला !  

5.
गीत सुनाती 
गाँव की पगडंडी 
रोज़ बुलाती ! 

6.
ज़िन्दगी ख़त्म, 
फूस की झोपड़ी से 
नदी का घाट ! 

7.
चिरैया चुगे 
लहलहाते पौध 
धान की बाली ! 

8.
गाँव की मिट्टी 
सोंधी-सोंधी महकी 
बयार चली ! 

9.
कभी न हारी 
धुँआँ-धुँआँ ज़िन्दगी 
गाँव की नारी ! 

10.
रात अन्हार 
दिन सूर्य उजार, 
नहीं लाचार ! 

11.
सुख के साथी
माटी और पसीना, 
भूख मिटाते ! 

12.
भरे किसान  
खलिहान में खान,   
अनाज सोना ! 

13.
किसान नाचे    
खेत लहलहाए,  
भदवा चढ़ा ! 

14. 
कोठी में चन्दा   
पर ज़िन्दगी फंदा,  
क़र्ज़ में साँस ! 

15.
छीने सपने 
गाँव की खुशबू के 
बसा शहर !   

16.
परों को नोचा  
शहर की हवा ने  
घायल गाँव ! 

17.
कुनमुनाती  
गुनगुनी-सी हवा 
फसल साथ ! 

18. 
कच्ची माटी में  
जीवन का संगीत,  
गाँव की रीत ! 

19. 
नैनों में भादों,  
बदरा जो न आए 
पौधे सुलगे ! 

20.
हुआ विहान,  
बैल का जोड़ा बोला -  
सरेह चलो !  


- जेन्नी शबनम (2. 9. 2014) 

________________________